अच्छे लोगों के साथ हमेशा बुरा ही क्यों होता है ,जानिए

अर्जुन के मन में हमेशा कुछ न कुछ प्रश्न उठते ही रहते थे | जिसका उत्तर पाने के लिए वह भगवान कृष्ण के पास जाते थे | एक दिन वह अच्छे व्यक्तियों से मिले और अच्छे व्यक्तियों ने उन्हें बताया कि हम लोग हमेशा धर्म का कार्य करते हैं | अगर किसी का भला नहीं कर सकते , तो किसी का बुरा भी नहीं करते हैं | फिर भी हमें परेशानियां क्यों होती है ? इस प्रश्न का उत्तर जानने के लिए अर्जुन भगवान कृष्ण के पास गए | इसके बाद भगवान कृष्ण ने उन्हें एक कहानी के माध्यम से समझाया | उन्होंने बताया कि एक गांव में दो व्यक्ति रहते थे एक व्यक्ति बहुत ही ज्यादा बुरा था | वह अधर्म का मार्ग अपनाता था , और दूसरा व्यक्ति हमेशा अच्छे कर्म करता था | उसके पास संपत्ति , धन बहुत था |

जिसकी वजह से वह हमेशा धान और धर्म के कार्य कर्ता था | वह दोनों हमेशा सुबह सुबह मंदिर जाते थे | जो धर्म का कार्य करता था वह हमेशा पूजा करने के लिए जाता था और जो अधर्म का कार्य करता था वह वहां जाकर चप्पले चुराता थाा , पैसे चुराता था | एक दिन तेज बारिश होने की वजह से धर्म करने वाला व्यक्ति थोड़ी देर से मंदिर गया | अधर्म करने वाला व्यक्ति पहले मंदिर जाकर वहां से धन चुरा लिया था | जब धर्म करने वाला व्यक्ति मंदिर पहुंचा , तो उसके पर चोरी का आरोप लग गया | लेकिन उसने चोरी नहीं की थी |

सभी लोग उस व्यक्ति को मारने के लिए आए और वह किसी तरह अपनी जान बचाकर वहां से भागा , जैसे वह वहां से भागा वैसे उसे गाड़ी में टक्कर मार दी , और अधर्म करने वाला व्यक्ति मंदिर से तो पैसे चुराए था और उसे रास्ते में भी धन से भरी पोटली मिल गई और वह और ज्यादा खुश हो गया |एक दिन उन दोनों व्यक्तियों का आमना-सामना हुआ , और उन दोनों ने अपनी अपनी बातें एक दूसरे को बताएं | अधर्म वाले व्यक्ति की बात सुनकर , धर्म करने वाला व्यक्ति आश्चर्यचकित रह गया | और वह अपने घर जाकर भगवान की फोटो बाहर फेंक दी , और भगवान से नाराज होकर जीने लगा | एक दिन एक छोटी सी टक्कर की वजह से धर्म करने वाले व्यक्ति की मृत्यु हो गई, और उसी दिन अधर्म करने वाला व्यक्ति चोरी करते हुए पकड़ा गया और उसे लोगों ने बहुत मारा जिसकी वजह से उसकी मृत्यु हो गई | जब वे दोनों यमराज के पास गए |

तब यमराज ने उनसे प्रश्न पूछा कि उन्होंने अपनी जिंदगी में क्या-क्या किया | दोनों व्यक्ति ने अपने बारे में बताया | धर्म करने वाला व्यक्ति पूछा कि मैं हमेशा अच्छे कार्य करता था ,  तो मेरे साथ बुरा क्यों होता था ? और यह  अधर्म का कार्य करता था , फिर भी इसके साथ अच्छा क्यों होता था ? इसके बाद यमराज ने धर्म करने वाले व्यक्ति को समझाया कि पृथ्वी क्षणभंगुर है , वह मृत्यु लोक है वहां पर हमेशा अच्छे करने वाले के साथ बुरा ही होता है , क्योंकि वहां पर अधर्म करने वाले लोग धर्म करने वाले लोगों से ज्यादा है | क्योंकि अधर्म करने के लिए किसी भी मार्गदर्शन की या प्रचार प्रसार की जरूरत नहीं होती | तुमने अच्छे कार्य किए , इसलिए तुम्हारी मृत्यु एक छोटी सी चोट की वजह से हुई | इसने बुरे कार्य किए | इसलिए इसकी मृत्यु बहुत ही ज्यादा दर्दनाक हुई | अच्छे कार्य करने की वजह से तुम्हें स्वर्ग मिला और बुरे कार्य करने की वजह से इसे नर्क मिला |अच्छे और बुरे कर्मों का फल हमें पृथ्वी पर किसी भी रूप में मिल सकता है | इसलिए हमें हमेशा अच्छे कर्म करने चाहिए 

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *