आख़िर ब्रिटेन के ब्रिस्टल में क्यों है राजा राममोहन राय की कब्र?

ब्रिटेन के ब्रिस्टल शहर में राजा राममोहन राय की समाधि है. आर्नोस वेल यहां का बहुत पुराना कब्रिस्तान है. यहां सौ-दो साल से अपरिचित कब्रगाहों के बीच उस शख़्स की कब्र है जिसने भारत को कई कुरीतियों से आज़ादी दिलाई.

बुझती हुई मुग़ल सल्तनत के बादशाह अक़बर द्वितीय ने उन्हें अपनी आर्थिक मदद की फ़रियाद लगाने के लिए इंग्लैंड भेजा था. वे वहां के राजा से मिल सकें, इसलिए उन्हें राजा का ख़िताब दिया गया.

लेकिन वो और भी बहुत कुछ करना चाहते थे. सती प्रथा बिल को रूढ़िवादी हिन्दुओं ने चुनौती दी थी. राजा नहीं चाहते थे कि वे कामयाब हों. साथ ही वो पश्चिमी देशों में भारत की आवाज़ भी रखना चाहते थे.

राजा रामोहन राय ने इंग्लैंड में कई जगहों पर भाषण दिए. अपनी बात रखी. यहां से वो अमरीका जाना चाहते थे. इसी बीच उनकी तबियत ख़राब हो गई और उन्हें मेनेंजाइटिस हो गया. जिसके बाद उनका देहांत हो गया.’

स्वागता बताती कि उनकी जिंदगी के ये ढाई साल बहुत ही अहम थे. 27 सितंबर 1833 में 61 साल की उम्र में जब राजा राममोहन राय का देहांत हुआ, उस वक़्त इंग्लैंड में दाह-संस्कार की अनुमति नहीं थी. इसलिए उन्हें दफ़्न किया गया.

लेकिन सालों तक उनकी कब्रगाह उपेक्षित रही. फिर एक भारतीय पारसी से शादी करने वाली एक ब्रिटिश महिला की उस पर नज़र पड़ी. वो मुंबई में पढ़ाती थीं.

गूगल चित्त

आर्नस वेल सीमेटरी की ट्रस्टी कार्ला कॉन्ट्रैक्टर ने बताया ‘मैं पहले मुंबई के स्कूल में पढाती थी, उसके बाद मैं सोफ़िया कॉलेज में पढ़ाने लगी. जहां मैंने राजा के बारे में भी पढ़ाया.’

‘उसके बाद जब हम ब्रिटेन लौटकर आए तो हमनें देखा कि उनकी कब्र का हाल बुरा है. उसके बाद हमने तय किया कि इसे बचाने के लिए हमें कुछ करना ही होगा.’

Leave a Reply

Your email address will not be published.