आखिर क्यों कोबरा को सांपों का किंग माना जाता है, जानकार रह जायेगें हैरान

आप सभी जानते हैं की मैं हमेशा कुछ नया आपके लिए लेके आता हूँ। हमेशा की तरह आज भी आपके लिए जबरदस्त टॉपिक लेके आया हूँ। चाहें कोई भी ऐसा हो नहीं सकता की उसे सांप से दर ना लगत हो। यह एक ऐसा जिव है जिससे हर किसी को दर लगता है। आपको बता दूँ की इस धरती पर साँपों की अनेको प्रजाति पायी जाती है। लेकिन कोबरा एक ऐसा सांप है, जिसकी जगह साँपों में सबसे अलग और अनोखी मानी जाती है।

इसका कारण है इसके रहने और खाने का तरीका। आपको बता दूँ की इसका जहर सबसे जहरीला भी माना जाता है। चलिए फिर जान लेते हैं की कोबरा को किंग क्यों माना जाता है। शुरू करने से पहले मैं एक बात कहना चाहूंगा की आप हमें फॉलो करना ना भूलें। आपको बता दूँ की जहां बाकी सांप अपने अंडे किसी दूसरे के घोसले में दे देती हैं। वहीँ मादा किंग कोबरा अपने घोसले खुद बनाती हैं। किंग कोबरा को अपना घोसला बनाने में औसतन दो से चार दिन का वक़्त लगता है।

आपको बता दूँ की किंग कोबरा का जहर इतना खतरनाक होता है, की किसी भी इंसान की जान बेहद कम समय में ले सकता है। अगर किसी इंसान को किंग कोबरा ने काट लिया है, तो उसकी जान तीस मिनट के अंदर जा सकती है। आपको बता दूँ की किंग कोबरा का जहर इतना प्रभावशाली होता है, की उसके जहर से एक बड़े हाथी की तीन से चार घंटो में उसकी जान जा सकती है। जब भी किंग कोबरा किसी को काटता है तो उसके अंदर से तक़रीबन दो चम्मच जितना जहर निकलता है।

आपको बता दूँ की किंग कोबरा अपनी लम्बाई के लिए भी जाना जाता है। बता दूँ की इनकी लम्बाई तक़रीबन दस से बीस फिट की होती है। कभी कभी तो इससे भी बड़े पाए गयें हैं। आपको बता दूँ की यह दुनिया का सबसे लम्बा जहरीला सांप है। सबसे पहले मैं आपको यह बता दूँ की कोबरा और किंग कोबरा दोनों अलग प्रजाति होते हैं। असली कोबरा किंग कोबरा जितना खतरनाक नहीं होता है। किंग कोबरा का फैन असली कोबरा से बहोत बड़ा होता है। बता दूँ की किंग कोबरा जमीन से 6 फिट ऊपर तक खुद को उठा लेते हैं।

आपको बता दूँ की जैसे बाकी जानवर मादा के लिए लड़ते हैं। ठीक वैसे ही नर किंग कोबरा खुद में झगड़ने लगते हैं, मादा किंग कोबरा के लिए। लेकिन यह एक दूसरे को काटते नहीं हैं। क्यों की इनके जहर का असर एक दूसरे पर काम नहीं करता। आपको बता दें की किंग कोबरा गुर्राता है। आपको बता दूँ खतरे की इस्थिति में यह खुद को जमीन से ऊपर उठा कर अपने आपको बड़ा दिखने की कोसिस करता है। उसके बाद से यह अपने साँस को खिंच कर अपने मुँह से निकलता है। जो बेहद भयभीर करने वाली आवाज़ होती है। इसकी तरह कोई भी सांप गुर्राता नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Ads by Eonads
Translate »