आटे के डिब्बें में अपने आप कीड़े कैसे पड़ जाते हैं, जबकि डिब्बे का ढक्कन ठीक तरह से बंद था? जानिए वजह

कीड़े आटे के डिब्बे में नहीं आट में पढ़ते हैं कभी आपने यह महसूस किया है की कीड़े सिर्फ उन्हीं आंखों में क्यों पड़ते हैं जो आप चक्की से पेशवा कर अपने हाथ लाते हैं उन ऑटो में कीड़े क्यों नहीं पड़ते जो आप पैकेट बंद बाजार से लाते हैं।

दरअसल इन पैकेट बंद आटे में इतना पेस्टिसाइड होता है कि उस सिर्फ कीड़े नहीं पड़ते यह तो इसका एक पक्ष हो गया कि कीड़े नहीं पड़ते लेकिन इसका दूसरा पक्ष भी है कि यह पेट के कीड़े भी मार देता है

और पेट के कीड़े मारे ना मारे आपके अंदर के तंत्र को तो बर्बाद ही कर देता है इसलिए पैकेट बंद आटे के बजाय कोशिश कीजिए की चक्की से आटा पिसाई है और वही खाइए जिस आटे में कीड़े पड़ रहे हैं वही आपके लिए स्वास्थ्यवर्धक है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.