इलाहाबाद में गंगा नदी में दिखने वाले प्रवासी पक्षी कहाँ से आते हैं ? ये कितनी दूरी तय करते हैं ? जानिए

संगम तट पर लगने वाले मेले के दौरान यात्रियों को गंगा और यमुना की लहरों पर अठखेलियां करते हुए सफेद पक्षी दिखाई देते हैं। इन सफेद पक्षियों को साइबेरियन सारस कहते हैं। इनके बारे में कुछ जानकारी इस प्रकार है-

1- साइबेरियन क्रेन एक दुर्लभ प्रजाति है जो कि रुस के साइबेरिया में पाए जाते हैं। साइबेरिया के पूर्व में रहने वाला सारस चीन की तरफ प्रवास करता है, पश्चिमी साइबेरिया में रहने वाले सारस ईरान की तरफ और मध्य साइबेरियन क्रेन भारत की ओर प्रवास करते हैं।

2- ये सारस प्रतिदिन 500 किमी की यात्रा 50 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से तय करते हैं।

3- साइबेरिया से उड़ते हुए ये अफगानिस्तान और मध्य एशिया और हिमालय पर्वत को पार करते हुए 26 हजार फीट की ऊंचाई तक उड़ते हैं और अक्टूबर के महीने में भरतपुर राजस्थान पहुंचते हैं।

4- ये सारस पक्षी अपना ठिकाना दलदली भूमि पर , नदियों के किनारे बनाते हैं जहां इन्हे पर्याप्त भोजन मिलता है।

5- भरतपुर के बाद ये अपना पड़ाव इलाहाबाद में गंगा नदी में बनाते हैं। वहां सर्दी के खत्म होने तक रुकते हैं फिर वापस अपने देश साइबेरिया लौट जाते हैं।

प्रवास की वजह- साइबेरिया में बहुत ठंड पड़ती है तब इनके भोजन समाप्त हो जाते हैं। तब ये अपने भोजन की खोज में भारत जैसे गर्म देश में आ जाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.