एक साल में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले 5 खिलाड़ी कौन हैं? जानिए

किसी भी खिलाड़ी की छमता और प्रदर्शन को समझना है तो उसका टेस्ट का परफॉर्म देखो क्योंकि इसमें खिलाड़ी का धैर्य और सयंम के साथ प्रतिभा की भी कड़ी चुनौती से तपना पड़ता है ।

मोहम्मद यूसुफ (पाकिस्तान) 1788 रन, साल साल 2006

साल 2006 में यूसुफ ने धमाकेदार की बैटिंग की। यूसुफ ने इस साल टेस्ट क्रिकेट के कई रेकॉर्ड तोड़े और नए रिकार्ड से अपनी दास्ताँ लिखी। युसूफ ने 11 टेस्ट मैचों में 1788 रन बनाए। जो किसी भी लिहाज से बहुत अच्छा रेकॉर्ड था। लाहौर में भारत के खिलाफ 173 रनों की पारी से शुरू हुआ सफर कराची में वेस्टइंडीज के खिलाफ 124 की पारी से जाके थमा।

विवियन रिचर्ड्स (वेस्टइंडीज) 1710 रन, साल 1976

विवियन रिचर्ड्स को दुनिया के पहले ताबड़ तोड़ बल्लेबाजो की गिनती में आते है बल्कि यही कहु की यही सबसे ताबड़ तोड़ बल्लेबाज थे 70 और 80 के दशक में रिचर्ड ने जमकर दुनिया के हर गेंदबाज की धज्जियां उड़ा के फेक दी कई बार उनके स्वैग से डर लगता। उन्होंने 1974 में अपना डेब्यू किया और 1991 तक अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेले। 17 साल लंबे करियर में विवियन रिचर्ड्स ने कई यादगार पारियां खेलीं। लेकिन यह साल 1976 था जब उनकी टेस्ट बैटिंग शायद सबसे गजब की रही

माइकल क्लार्क (ऑस्ट्रेलिया)- 1595 रन, साल 2012

माइकल क्लार्क एक बेतरीन बल्लेबाज तो थे ही साथ ही वो लाजवाब कप्तान भी थे जब भी माइकल रंग में आते तो गेंदबाजो की धज्जियां उड़ा देतें थे उनका बल्लेबाजी औसत 49 से ऊपर का है। लेकिन साल 2012 था जब क्लार्क को बिलंदियां छूने को मिला और लाजवाब बल्लेबाजी कर अपने करियर का सबसे उम्दा साल बना दिया इस कैलेंडर ईयर में उन्होंने 106 के औसत से रन बनाए। क्लार्क ने 1595 रन बनाए और ऑस्ट्रेलिया के लिए कई दमदार पारियां खेलीं।

सचिन तेंडुलकर (भारत) – 1562 रन, साल 2010

सचिन तेंडुलकर ने 24 साल के अपने करियर में कई खिताबो को अपने नाम किया है । दुनिया के महान बल्लेबाजों में शुमार सचिन ने टेस्ट क्रिकेट में 51 शतक और 15921 रन बनाए जो एक रेकॉर्ड है। भारत में क्रिकेट को धर्म बनाने में सचिन की अहम भूमिका है। सचिन ने अपने करियर में ऑस्ट्रेलिया से लेकर इंग्लैंड और कैरेबियाई देशों तक अपने बल्ले से धुल चटाई है।

ग्रीम स्मिथ (साउथ अफ्रीका) – 1656 रन, साल 2008

ग्रीम स्मिथ दुनिया के बेहरतीन कप्तानों में शुमार है । स्मिथ इसके साथ ही चोटी के बल्लेबाज भी थे। ग्रीम स्मिथ ने कई बार अपनी टीम को मुश्किल से उबारा और मजबूत स्थिति में पहुंचाया। साल 2008 उनके करियर का यादगार दिन रहा। स्मिथ ने इस साल 15 टेस्ट मैचों में 1656 रन बनाए। और इतिहास में अपना नाम दर्ज करा दिया ।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *