ऐसा कौनसा फूल है जो 12 साल में एक बार ही खिलता है ? जानिए

नीलाकुरिंजी फूल, मुन्नार की पहाड़ियों पर खिलता है. सबसे दिलचस्प बात यह कि ये फूल 12 साल में सिर्फ एक बार ही खिलता है.

स्थानीय भाषा में नीला का तात्पर्य रंग से है और कुरिन्जी फूल का स्थानीय नाम है। केरल पर्यटन की ओर से जारी बयान के अनुसार, नीलकुरिन्जी (स्ट्रोबिलांथेस कुंथियाना) प्राय: पश्चिमी तटों पर पाया जाता है और 12 साल में एक बार खिलता है। यह एक दशक लंबा चक्र इसे दुर्लभ बनाता है।पिछली बार यह फूल साल 2018 में खिला था। भारत में इस फूल की 46 किस्में पाई जाती हैं। मुन्नार में यह सर्वाधिक संख्या में उपलब्ध है।

जुलाई की शुरुआत में नीलकुरिन्जी के खिलने के बाद अगले तीन माह तक पहाड़ियां नीली दिखाती है. ये फूल तीन महीनो तक खिले रहते है. इस पौधे का अनूठा जीवनचक्र पहाड़ों को यात्रा प्रेमियों का चहेता गंतव्य बनाता है।एराविकुलम नेशनल पार्क में नीलगिरी थार को संरक्षण प्रदान किया गया है। एराविकुलम नेशनल पार्क नीलकुरिन्जी का प्रमुख क्षेत्र है, जहां प्रतिदिन अधिकतम 2750 पर्यटकों को आने की अनुमति है.मुन्नार समुद्र तल से 1600 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *