कालचक्र जब एक राजा ने अनजाने में अपनी ही मा से शादी कर ली,ऐसे किया पश्चाताप जानिए इसके बारे में

कालचक्र के फेर में एक राजा ने कैसे अपने पिता की हत्या कर माँ को पत्नी बना लिया लेकिन जब खुलासा हुआ तो क्या हुआ ? कैसे हुआ पश्चाताप …

ग्रीस जिसे हम यूनान कहते हैं, के पौराणिक कथाओं में ओडेपस (Oedipus) नामक एक राजकुमार की कथा मिलती है. लगभग ईसा पूर्व ७वी शताब्दी में लाईअस (Laius) नाम का एक राजा थेबेस नगर राज्य का शासक था. उसकी पत्नी का नाम था जोकस्ता (Jocasta). इन्हें एक पुत्र होता है ओडेपस (Oedipus). राजा लाईअस ने , डेल्फी के पुरोहित, तिरेसियस, जो भविष्य वक्ता था (ओरेकल) से बच्चे के भविष्य की जानकारी चाही.

ओडेपस स्फिंक्स के प्रश्न का उत्तर देते हुए

उसने यह बता दिया कि बच्चा बड़ा होकर अपने पिता की हत्या करेगा और अपनी माँ से शादी कर लेगा. भविष्य में ऐसी अनहोनी से मुक्ति पाने के लिए राजा लाईअस ने बालक ओडेपस की हत्या करवा देने की ठान ली. उसने बालक के दोनो पैरों को आपस में बँधवा कर किसी चरवाहे या पशुपालक को दे दिया और निर्देशित किया कि बच्चे का वध कर दे. उस चरवाहे में बालक के प्रति दया उमड़ पड़ती है. लेकिन राजाज्ञा के डर से एक दूसरे चरवाहे को सौंप देता है. दूसरा चरवाहा बच्चे को कोरिन्थ नगर राज्य के शासक पोलिबस के सुपुर्द कर देता है.

पोलिबस ने ओडेपस को गोद ले लिया और उसका लालन पालन युवराज की तरह होने लगा. कोरिन्थ का वह अगला शासक बनने वाला था. अब वह युवा हो चला था. धीरे धीरे उसे अफवाहें सुनने को मिलीं की वह पोलिबस का पुत्र नहीं है. इन सुनी सुनाई बातों पर उसे विश्वास नहीं हुआ. एक दिन उसने एक भविष्य वेत्ता से सच्चाई जाननी चाही. उसे इतना ही बताया गया की उसके हाथों उसके पिता की मृत्यु होगी और वह अपनी माता से ही संबंध भी बनाएगा. भविष्य वेत्ता की बातों को ग़लत साबित करने के लिए उसने कोरिन्थ शहर को छोड़ देना ही उचित समझा. भरे मन से वह थेबेस की ओर निकल पड़ा.

ओडेपस, थेबेस की ओर बढ़ा चला जा रहा था. कुछ दूर जाने के बाद उसे एक मार्ग संगम (तिगड़डा) मिला. सामने की ओर से कोई रथ पर सवार हो आता दिखा. यह थेबेस का राजा लाईअस ही था परंतु ओडेपस उसको पहचानता नहीं था. लाईअस ने मन में सोचा कि यह नौजवान मेरे जाने के लिए रास्ता छोड़ देगा. पर ऐसा न्हीं हुआ. ओडेपस अड़ गया. आपस में खूब तू तू मै मै हुई और तलवारें खिंच गयीं. अंत में राजा लाईअस मारा गया. ओडेपस को पता भी नहीं चला कि यह उस भविष्यवाणी का एक भाग था. उसने अपनी यात्रा जारी रखी.

आगे जाकर उसकी मुलाकात एक स्फिंक्स (यूनान में स्त्री शरीर और शेर के मुख युक्त एक विशाल जानवर) से हुई. सभी थेबेस जानेवालों को वह रोका करती थी और एक पहेली पूछती. सही उत्तर ना देने वालों को खा जाती. उसने ओडेपस से पूछा “वह कौन है जो सुबह चार पैरों पर, दुपहर दो पैरों पर और शाम तीन पैरों पर चलता है”. ओडेपस ने उत्तर दिया कि “आदमी ही बचपन में चारों पैरों से रेंगता है, बड़े होने पर दो पैरों पर चलता है और बुढ़ापे में लकड़ी का सहारा लेता है” यह पहली बार था कि किसी ने स्फिंक्स को सही उत्तर दिया था. उत्तर सुनते ही स्फिंक्स वहीं मृत होकर ढेर हो जाती है और इस तरह थेबेस वासियों को उस दुष्ट स्फिंक्स से छुटकारा मिल जाता है. थेबेस के नागरिक प्रसन्न होकर ओडेपस को अपना राजा नियुक्त करते हैं और विवाह में विधवा रानी जोकस्ता का हाथ भी उसे सुपुर्द कर देते हैं. ओडेपस और रानी जोकस्ता के इस संबंध से चार बच्चे होते हैं, दो लड़के पोलिनिसेस और इतिओक्लेस और दो लड़कियाँ अन्तिगोने और इसमेने.

ओडेपस और जोकस्ता के शादी के कई साल बाद, एक बार थेबेस नगर में प्लेग की बीमारी फैलती है. लोगों में त्राहि त्राहि मच जाती है. ओडेपस दंभ में आकर कहता है कि वह इस बीमारी को भगा देगा. सलाह लेने के लिए वह रानी जोकस्ता के भाई क्रिओं को डेल्फी के पुरोहित (ओरेकल) के पास भेज देता है. उसके वापस आने पर ओडेपस को बताया जाता हैं कि नगर को बचाने के लिए पूर्व राजा लाईअस के हत्यारे को ढूंड कर उसकी हत्या कर देनी होगी या फिर देश के बाहर करना होगा. राजा के हत्यारे की सही पहचान करने के लिए ओडेपस डेल्फी के पुरोहित, तिरेसियस को, जो अब अँधा हो चला था, बुला भेजता है. तिरेसियस सब कुछ जानता था परंतु वह बताना नहीं चाहता था. वह सलाह देता है “तुम उस हत्यारे की खोज करना बंद कर दो, तुम्हारे लिए अच्छा नहीं होगा”. ओडेपस नाराज़ होकर तिरेसियस को बुरा भला कहने लगता है. उत्तेजना में आकर तिरेसियस बता बैठता है “जिस को ढूंड रहे हो वो तो तुम खुद ही हो और एक शर्मनाक जीवन बिता रहे हो”. ओडेपस यह सब सुनकर स्तब्ध रह जाता है. उसे इन बातों पर विश्वास नहीं होता और पुनः अपनी खोज में लग जाता है. उधर कोरिन्थ से राजा पोलिबस की मृत्यु का समाचार लेकर एक संदेशवाहक पहुँचता है. वह यह भी बताता है कि ओडेपस को मृत राजा ने गोद लिया था. जोकस्ता को तो सब कुछ समझ में आ जाता है और वह ओडेपस से विनती करती है कि वह लाईअस के हत्यारे की तलाश करना छोड़ दे. फिर वह अपने महल की ओर बढ़ जाती है. ग्लानि से अपने कक्ष में पहुच कर आत्म हत्या कर लेती है.

संदेशवाहक के द्वारा बताई गयी बातों की सत्यता परखने के लिए ओडेपस उस बूढ़े हो चले चरवाहे से भी मिलता है और वह भी इस बात की पुष्टि करता है कि जिस बच्चे को पोलिबस ने गोद लिया था वह पूर्व राजा लाईअस और जोकस्ता की ही संतान थी. अब कहीं जाकर ओडेपस के सभी भ्रम दूर होते हैं. वह समझ जाता है कि थेबेस की ओर जाते हुए जिस व्यक्ति की हत्या उसके हाथों से होती है वह उसका ही पिता लाईअस था. उसकी मृत्यु के कारण ही उसे राजा बनाया गया था और यह भी कि उसने अपनी ही माँ जोकस्ता से ही शादी भी कर ली थी.

घोर पश्चाताप और आत्म ग्लानि से ग्रसित हो ओडेपस अपनी माँ से मिलने उसके कक्ष में जाता हैं और तब उसे पता चलता है कि जोकस्ता ने आत्म हत्या कर ली है. मृत शरीर के चारों ओर घूमता है और तभी उसे अपनी माँ के गाउन में खुंची हुई सलाइयाँ मिल जाती हैं. उनसे वह स्वयं ही अपनी आँखें निकाल देता है. अँधा हो चले ओडेपस अब पश्चाताप की आग में झुलसता हुआ थेबेस नगर को छोड़ निकल पड़ता है. मदद के लिए उसकी बेटी अन्तिगोने साथ हो लेती है. गाँव गाँव भटकते भटकते अंत में उसकी मृत्यु कॉलोनस नामक जगह में हो जाती है. मृत्यु के पूर्व अथेन्स के राजा थेसियस ने उसे अपनी अभिरक्षा में ले लिया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published.