कुछ भारतीय क्रिकेटर कौन हैं जो वनडे में सफल रहे लेकिन टेस्ट में फ्लॉप रहे? जानिए इसके बारे में

भारतीय टीम में बहुत सारे ऐसे खिलाड़ी रहे हैं जो वनडे में सफल रहे लेकिन टेस्ट मैच में अपनी चमक नहीं बिखेर पाए।आइये जानते हैं इन खिलाड़ियों के बारे में

रोहित शर्मा- अगर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में किसी खिलाड़ी को सबसे ज्यादा मौके मिले हैं तो वह रोहित हैं।और मौजूदा दौर मे रोहित भारतीय टीम के सबसे महत्वपूर्ण वनडे खिलाड़ी बन चुके हैं।हालांकि टेस्ट में रोहित अपने आपको साबित नही कर सके।रोहित ने 2013 मे टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण किया,तबसे वे लगातार ही अंदर बाहर होते रहे।224 वनडे मैचों में 9000 से भी ज्यादा रन बनाने वाले रोहित 32 टेस्ट मैचों की 53 परियों मे सिर्फ 6 शतकों के साथ 2141 रन ही बना पाए हैं।हालाँकि पिछली कुछ श्रृंखलाओं मे रोहित ने अच्छा प्रदर्शन किया है।

युवराज सिंह- सिक्सर किंग के नाम से प्रसिद्ध युवराज सिंह ने वनडे क्रिकेट मे 300 से अधिक मुकाबलों में भारतीय टीम का प्रतिनिधित्व किया है।वनडे क्रिकेट मे भारत के लिये तुरुप का इक्का थे लेकिन 9 साल के लंबे टेस्ट कैरियर में युवी ने सिर्फ 40 मैच ही खेल सके ।युवी उन 40 मैचों की 62 परियों में 3शतकों के साथ सिर्फ 1900 रन ही बना सके।और गेंदबाज़ी में भी कुछ खास कमाल न कर सके और सिर्फ दस विकेट ही अपने नाम कर सके।

सुरेश रैना- वनडे क्रिकेट में सुरेश रैना मध्यक्रम के अच्छे खिलाडियों में से एक रहे हैं।रैना ने भारत के लिए 200 से भी अधिक मैच खेलकर 5000 से भी अधिक रन बनाए है।रैना न सिर्फ एक बल्लेबाज बल्कि एक जबरदस्त क्षेत्ररक्षक और उपयोगी गेंदबाज़ थे।2010 मे श्रीलंका के खिलाफ अपने पहले ही टेस्ट शतक लगाकर रैना ने सबको प्रभावित किया लेकिन उस मैच के बाद रैना के बल्ले को जंग लग गया।रैना ने 18 टेस्ट मैचों 31 पारियों में सिर्फ 768 रन ही बना सके।

महेंद्र सिंह धोनी- आईसीसी के सभी प्रमुख टूर्नामेंट जीतने वाले विश्व के एकमात्र कप्तान धोनी का प्रदर्शन वनडे क्रिकेट में बहुत जबरदस्त रहा है। धोनी ने 350 मैचों में 10000 से भी अधिक रन बनाए है।लेकिन टेस्ट क्रिकेट मे अगर कप्तानी को छोड़ दिया जाय तो धोनी का प्रदर्शन उनके स्तर का नही रहा।टेस्ट क्रिकेट मे धोनी ने 90 मैचों की 144 पारियों मे सिर्फ 6 शतकों की मदद से सिर्फ 4876 रन ही बना सके।और 2014 मे धोनी ने बीच सीरीज में ही टेस्ट क्रिकेट से सन्यास लेते हुए अपना कैरियर समाप्त कर लिया।

अजित अगरकर- अजित भारतीय टीम के महत्वपूर्ण गेंदबाजों में से एक थे और निचले क्रम में एक उपयोगी बल्लेबाज़ भी थे। वनडे क्रिकेट में अजित भारत की तरफ से तीसरे सबसे ज्यादा विकेट(191मैचों में 288 विकेट)लेने वाले गेंदबाज़ हैं।लेकिन अजित भी टेस्ट में कुछ खास असर नही छोड़ सके।महज़ 26 मैचों मे 58 विकेट अपने नाम कर पाये।हालाँकि टेस्ट क्रिकेट मे उन्होंने एक बहुत ही प्रसिद्ध शतक बनाया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.