कृषि में इस्तेमाल किए जाने वाले शब्द “खरीफ” और “रबी” का क्या अर्थ है?

करीब 10 साल पहले एक कृषि पदाधिकारी ने मुझे ऐसे ही कभी बताया था कि खरीफ और रबी फसलों के बारे में करीब करीब सभी लोग अवगत हैं परन्तु यह बहुत कम लोग जानते हैं कि खरीफ और रबी का नामकरण फसल लगाने (सोविंग) के अनुसार नहीं बल्कि उनके कटनी (हार्वेस्टिंग) के अनुसार हुआ है।

यह मेरे लिए नई बात थी। मैंने इस विषय पर कभी गंभीरता से नहीं सोचा था। मुझे यही पता था कि धान, मक्का आदि जो फसलें बरसात में लगाई जाती हैं वह खरीफ फसलें हैं और गेंहू जैसी फसलें जो ठंड में लगती हैं वह रबी कहलाती हैं। यह सही भी है बस केवल नामकरण जब फसलें लगती उस आधार पर नहीं हैं बल्कि जब काटी जाती हैं उस आधार पर है।

जो फसलें पतझड़ (ऑटम) में काटी जाती हैं उन्हें खरीफ कहा जाता है। ऐसी फसलें बरसात में लगाई जाती हैं।

जो फसलें बसंत (स्प्रिंग) में काटी जाती हैं उन्हें रबी कहा जाता है। इन्हे जाड़े में लगाया जाता है।

खरीफ और रबी शब्द का इस्तेमाल मुख्यतः भारत, पाकिस्तान और बांग्लादेश में किया जाता है। इन शब्दों का प्रचलन भारत में मुगलों के आने के बाद शुरू हुआ। दोनों शब्द अरबी भाषा से आए हैं।

अरबी में खरीफ का मतलब पतझड़ होता है और रबी का मतलब बसंत।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *