कैसे नाभी के अंदर हर रोज रूई या कॉर्टन आता है ? इसका वैज्ञानिक कारण क्या है?

१५ वर्ष की उम्र तक मै भी यही समझता धा की ये कोई चमत्कार है,क्योंकि मेरे पिताजी ने मुझे ऐसा ही बताया था।पर जब मै १२ वी क्लास में था और दिमाग के कपाट काफी खुल चुके थे , अंधविश्वास मै बिल्कुल नहीं मानता था।एक दिन फिर मेरे पिताजी ने इसी बात को फिर दोहराया ओर चमत्कार बताया।

तब मेरे मन में कोतुहुल जागा ओर मैंने फैसला किया कि इसके पीछे का विज्ञान जानकर ही रहूंगा व इस अंधविश्वास को अपने परिवार में खोलकर रहूंगा।हम भारतीय लोग खासकर मर्द ,अपनी शर्ट के नीचे कॉटन की बनियान जरूर पहनते है को गर्मी में पसीना सूखने का काम करती है व शरीर को ठंडक प्रदान करती है बस इसी में यह राज छुपा है।

हमारी नाभि के आसपास शरीर पर बाल होते हैं बनियान होजरी के कपड़े से बनी होती है हमारी दिनचर्या में यह बनियान हमारे नाभि के आसपास वाले बालों से घर्षण करके कुछ रूई बना लेती है और क्योंकि नाभि एक गड्ढे में होती है इसलिए यह रुई इकट्ठे होकर उस गड्ढे में जमा हो जाती है जिसे हम चमत्कार मानते हैं। इसका राज मुझे अचानक ही पता चल गया क्योंकि उन दिनों शर्ट के नीचे बनियान पहनने का फैशन हट गया था सभी युवा बिना बनियान के शर्ट पहनते थे व शर्ट के ऊपरी दो बटन भी खोलकर रखते थे मैंने भी ऐसा ही करा तो कुछ दिनों बाद मैंने देखा की जब मैं पॉलिस्टर की शर्ट पहनता हूं तो उस दिन नाभि पर रूई इकट्ठा नहीं होती है फिर मैंने इसे नोट करना शुरू करा तो मैंने पाया कि जब भी कॉटन या कॉटन जैसे कपड़े पहनता हूं तो रूई इकट्ठा हो जाती है कभी उसकी मात्रा कम जा ज्यादा हो सकती है यह कपड़े की क्वालिटी पर निर्भर होता है और जिस दिन मैं पॉलिस्टर या नायलॉन के कपड़े पहनता हूं उस दिन रूई नहीं बनती तो अब आप लोग समझ चुके होंगे कि यह कोई चमत्कार नहीं है।

इस बात को एक और तरीके से भी समझ सकते हैं की औरतें अक्सर रेशम या पॉलिस्टर से बने कपड़े पहनती हैं इसीलिए उनकी नाभि में कभी रूई नहीं बनती है अगर यह चमत्कार होता तो सभी की नाभि में रूई बनना चाहिए इसे एक और बात से भी सिद्ध कर सकते हैं कि आप अपनी नाभि को कपड़े से ना ढके तो रूई नहीं बनेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.