कोरोना महामारी के बीच रोजाना पिएं गर्म पानी, जानिए इसके फायदे

COVID-19 की दूसरी लहर अपने पैर पसार रही है और स्थिति बेहद गंभीर होती जा रही है. भारत में अब तक कोरोना वायरस के 2.5 करोड़ मामले सामने आ चुके हैं, जबकि 2.74 लाख लोग इस बीमारी से अपनी जान गंवा चुके हैं. ऐसे में ये बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है कि न केवल सरकार के जरिए COVID-19 दिशानिर्देशों का पालन करें बल्कि अपने स्वास्थ्य और रोज की दिनचर्या पर भी नजर रखें.

पिछले स्ट्रेन के विपरीत, वायरस का ये नया स्ट्रेन सभी उम्र के ग्रुप्स को प्रभावित कर रहा है. इसलिए, लक्षणों को दूर रखने के लिए जरूरी सावधानी बरतना महत्वपूर्ण है और ऐसा करने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक है ढेर सारा गर्म पानी पीना. हां, ये सच है. गर्म पानी के कई हेल्थ बेनेफिट्स हैं और कई डॉक्टरों और डाइट एक्सपर्ट्स ने इसे अपने नियमित अभ्यास में शामिल करने की सलाह दी है.

यहां हम रोजाना उबालकर पानी पीने के 5 ऐसे फायदों के बारे में बता रहे हैं जो आपकी इम्यूनिटी को मजबूत बनाए रखेंगे और आपके शरीर को चल रही वैश्विक महामारी से लड़ने में मदद करेंगे.

नाक बंद के लिए अच्छा

अगर आपकी नाक में बंद नाक जैसी समस्या है, तो एक गिलास गर्म पानी चमत्कार कर सकता है. आप गर्म पानी से भाप भी ले सकते हैं. इसके भाप आपके साइनस और कंजेशन को साफ करने में मदद कर सकते हैं. अगर आपकी नाक बह रही है तो भी ये फायदेमंद है.

आपके पाचन को स्वस्थ रखता है

रोजाना एक गर्म पानी का गिलास आपके पाचन तंत्र को दुरुस्त रख सकता है. ये एक्सट्रा फूड पार्टिकल्स को पक्षों में इकट्ठा करने के लिए खत्म करता है जो कचरे को ज्यादा उचित रूप से साफ करने में मदद करता है. COVID-19 के प्रमुख लक्षणों में से एक पेट से संबंधित समस्याएं जैसे दस्त है. इसलिए इस मामले में उबला हुआ पानी काफी मददगार हो सकता है.

तनाव के स्तर को कम करता है

गर्म पानी न केवल आपके पाचन और हृदय स्वास्थ्य के लिए बल्कि आपके मानसिक स्वास्थ्य के लिए भी अच्छा है. हां, ये आपके दिमाग की कार्यप्रणाली में सुधार करता है क्योंकि ये तनाव से राहत देता है. प्रतिदिन उबला हुआ पानी पीने से आपको शांति, सकारात्मक और तनावमुक्त रहने में मदद मिल सकती है.

अचलसिया के लक्षणों को दूर करने में मदद करता है

गर्म पानी अचलसिया के लक्षणों से राहत दिलाने में भी मदद करता है जो आपके अन्नप्रणाली में होने वाली एक समस्या है. इस स्थिति में भोजन को निगलने में कठिनाई होती है और वो अन्नप्रणाली में फंस जाता है.

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *