क्या कभी ट्रंप के पास भी “ताजमहल” था और वह कैसे छीना गया?

दिलचस्प है कि अमेरिकी राष्ट्रपति ने भी एक ताज महल (Trump Taj Mahal) बनवाया था, लेकिन ऐसा क्या हुआ कि 26 साल बाद उस ‘ताज महल’ को बेचना पड़ा…

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अपनी भारत यात्रा के दौरान दुनिया सात अजूबों में से एक ताज महल का दीदार करेंगे. अमेरिकी राष्ट्रपति 24 फरवरी को दोपहर के करीब अहमदाबाद पहुंचेंगे. उनके साथ अमेरिका की प्रथम महिला मेलानिया ट्रंप, बेटी इवांका ट्रंप और दामाद जेरेड कुशनर के अलावा शीर्ष अमेरिकी अधिकारियों समेत उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल भी होगा. अहमदाबाद में एक कार्यक्रम में शामिल होने के बाद ट्रंप ताजमहल के दीदार के लिए सोमवार की दोपहर आगरा रवाना होंगे और दौरे के अंतिम चरण में वह राष्ट्रीय राजधानी पहुंचेंगे. आपको जानकारी हैरानी होगी कि ताज महल का दीदार करने जा रहे डोनाल्ड ट्रंप के पास भी अपना एक ताज महल था.

आइए जानते हैं ट्रंप के ताज महल के बारे में…

अमेरिका के न्यूजर्सी राज्य के अटलांटिक सिटी में Hard Rock Hotel & Casino Atlantic City नाम का एक कसीनो और होटल है. इसे ट्रंप ताज महल के नाम से भी जाना जाता है. ये कसीनो अमेरिका के सबसे मशहूर कसीनो में से एक है. इस कसीनो को 100 करोड़ डॉलर की लागत से साल 1990 में बनाया गया था.

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप एक बड़े बिजनेसमैन हैं. उन्हें अपने पिता से विरासत में एक विशालकाय बिजनेस अंपायर मिला था. 2 अप्रैल, 1990 को डोनाल्ड ट्रंप का यह कसीनो बनकर पूरा हुआ था. तब ये दुनिया का सबसे बड़ा कसीनो था. दिलचस्प बात ये है कि तब इस कसीनो का इनैगुरेशन भी डोनाल्ड ट्रंप ने ही किया था. करीब 24 सालों तक ट्रंप की कंपनी ने इस कसीनो को सफलता के साथ चलाया. लेकिन 2014 में कई फाइनेंशियल दिक्कतें सामने आना शुरू हो गईं. कंपनी कई स्तरों पर जूझने लगी थी. 2016 में बंद हुए इस कसीनो को एक मार्च 2017 को सेमिनोल ट्राइब ऑफ फ्लोरिडा ने हार्ड रॉक इंटरनेशनल ब्रांड के अंतर्गत दोबारा शुरू किया.

Leave a Reply

Your email address will not be published.