क्या काली बिल्ली द्वारा रास्ता काटना के पीछे कोई मान्यता छिपी है ?

प्राचीन मिस्र में, देवी बस्तीत (Bastet)से जुड़े होने के कारण बिल्लियों की पूजा की जाती थी, मान्यता थी कि इससे उनके घरों की रक्षा होती है. इस देवी को पहली सहस्राब्दी के दौरान लोगों द्वारा बिल्ली की एक प्रजाति ‘मोगीज़’ को पालने के कारण काली बिल्ली के शीश के साथ चित्रित किया जाने लगा।

मिस्र के पिरामिड में एक छ हज़ार साल पुरानी बिल्ली की ममी मिली थी इस ममी और देवी के कारण माना जाता है कि बिल्ली के विषय मे अंधविश्वास मिस्र से आरंभ हुए।
ये अंधविश्वास अधिकतर पश्चिमी सभ्यता की देन है।
पश्चिमी देशों में काली बिल्ली को शैतान से जोड़ कर देखा जाता है, ये कहा जाता हैकाली बिल्ली चुड़ैल की सहायिका होती है अमेरिका में आज भी लोग मानते हैं कि बिल्लियां दुर्भाग्य लाती हैं.
परन्तु मिस्र के समान ब्रिटेन और आयरलैंड में काली बिल्ली को शुभ माना जाता है, जर्मनी में भी बिल्लियों का बाईं से दाईं ओर रास्ता काटना अच्छा मानते हैं।
अब बात करते है भारत की
हमारे भारत मे सभी को विदित है सनातन धर्म मे हर पशु या पक्षी किसी न किसी देवता से जुड़ा है यहां बिल्ली को देवी षष्ठी का वाहन माना जाता है जो बालको की रक्षा करती है बिल्ली को पालने से राहु शांत होते है ऐसी भी मान्यता है।
हमारे सनातन धर्म मे किसी भी अंधविश्वास को बल प्रदान नही किया जाता परन्तु धर्म की अपने लाभनुसार व्याख्या करने वाले पोंगा पंडितो के कारण कुछ कुरीतियों का प्रसार हुआ।
इससे ये सिद्ध हो जाता है ये सब अंधविश्वास अंग्रेज़ो के साथ या पश्चिमी देशों से आये विदेशी व्यक्तियों के साथ आ गए हों।
अब अंधविश्वास आ ही गए है तो उसके उपाय ये है बिल्ली रास्ता काट जाएं तो घबराए नही;
थोड़ी देर वही प्रतीक्षा करें और उसके पश्चात आगे बढ़े।
दिन के समय हो तो सूर्य भगवान की ओर नमस्कार करे और आगे बढ़ जाये।
सात कदम पीछे की ओर जा कर पुनः अपने गंतव्य को ओर प्रस्थान करने से दोष समाप्त होगा।
अपने चप्पल या जूते या पत्थर को आगे फेंक कर स्वयं आगे बढ़ जाये आगे जा कर अपना जूता या चप्पल उठा लीजिये।(बिल्ली को चप्पल या जूता नही मारना है।)
अपने इष्ट देव/देवी या हनुमान जी का ध्यान करे आगे चले जाएं।
राहु का मंत्र ‘रां राहवे नमः’ बोल कर आगे जाए कोई बाधा नही आएगी।
किसी और को वो स्थान पार करने दीजिए उसमे प्रतीक्षा करनी होगी कोई नही आया तो वही रुके रहना होगा।
अंत में मात्र ये ही कि मेरे समान सोचिए ये सड़क सरकार ने अपने देश मे सभी के लिए बनवाई है तो बिल्ली भी भगवान का बनाया जीव है उसको भी हमारे भारत मे रहने का अधिकार है वो भी सड़क का उपयोग करेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.