क्या गेंहू के “ज्वारा” का रस पीने से कैंसर व मधुमेह को जड़ से समाप्त किया जा सकता है? जानिए

बिल्कुल किया जा सकता है। गेहूं के ज्वारों में शरीर का शोधन और उसे स्वस्थ रखने की अद्भुत शक्ति होती है। अमरीका की एक महिला डॉक्टर विगमोर ने गेहूं की शक्ति के सम्बन्ध में बहुत अनुसंधान तथा अनेकानेक प्रयोग करके एक बड़ी पुस्तक लिखी थी जिसका नाम था Why Suffer? The Answer? “Wheat grass” माना।

गेहूं का पौधा कैंसर के उपचार में किस प्रकार सहायक है? डाक्टर विगमोर ने कहा—कैंसर भी शरीर की एक स्थिति मात्र है, जो यह बताती है कि इस अद्भुत यन्त्र में कहीं कोई खराबी है। प्रकृति हमेशा शरीर को सन्तुलन रखने का प्रयत्न करती है।

कुछ लोग कैंसर से पीड़ित होते हैं और कुछ को अन्य बीमारियां, यह इसलिए कि सबके जीवन जीने का ढंग अलग-अलग हैं। एक महिला की छाती में कैंसर था। सब प्रकार की चिकित्सा कराकर वह निराश हो चुकी थी। उसको गेहूं के ज्वारों का रस दिया गया और वह कुछ ही महीनों में ठीक हो गई।

इसके अलावा मधुमेह, बवासीर, भगंदर, गठिया, पीलिया, दमा, खांसी और भयंकर फोड़ों को गेहूं के ज्वारे के रस से कुछ महीनों के सेवन से रोगी ठीक हो गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.