क्या दुनिया में ऐसा रोबोट है जिसमें भावनाएं भी हैं ? जानिए सच

जी नहीं, अभी तक ऐसा कुछ भी नही है, मैं भी एक सॉफटवेयर इंजीयर हूं और आरटिफि‍सि‍यल इेटेलीजेंस का कोर्स भी कि‍या है, अभी तक इंजीि‍नयर हमारे इंसानी दि‍मांग को ही ठीक से नही समझ पाये है और सच कहू तो मेरे हि‍साब से जो भी कम्‍पनीयां हयूमेनोइड बनाने पर काम कर रही है.

वो गलत रास्‍ते पर है इस तरह से तो अगले 50 सालों में भी ऐसा रोबोट नही बनाया जा सकता, क्‍योंकि‍ इंजीि‍नयरर्स रोबोट में हर एक खूबी को प्रोग्राम कर रहे हैं, जबकि‍ हम इंसान ऐसा नही करते हम खुद सीखते है, अपनी जरूरत, और अनुभव के आधार पर,

मेरे अनुसार एक पर फेक्‍ट हयूमेनोइड बनाने की लि‍ए हमे र्सि‍फ रोबोट मे खुद सीखने की प्रोग्रामि‍ंग करनी होगी वो भी उस रोबोट की जरूरत और अनुभव के आधार पर उस रोबोट की जि‍ंदा रहने के ि‍ि‍ि‍ि‍ि‍लये ना कि‍ हमारी जरूरतों के िलि‍ए ना कि‍ हमारे लि‍ए तभी उसमें भावनाएं आ सकती है

जैसे कि‍सी रोबोड के जि‍ंदा रहने के लि‍ए उसे खुद के बॉडी और प्रोग्रामि‍ंग को खुद ही समझना होगा जि‍ससे कोई प्रोबलम होने पर वो खुद ही उसे सुधार सके और अपने लि‍ए एनर्जी सोर्स ढूंढना या बनाना उसे खुद ही करना होगा जैसे हम इंसानो को भी भगवान ने हमारा ऑपरेशन करना और खेती करना सि‍खाके नही भेजा वो सब हमने खुद ही सीखा है जीना हमने खुद सीखा ठीक ऐसा सा करना होगा

Leave a Reply

Your email address will not be published.