क्या यह सच है कि सुनील गावस्कर ने कभी कोलकाता के ईडन गार्डन्स में क्रिकेट मैच नहीं खेलने का फैसला किया? जानिए क्यों?

कभी कभी ऐसा हो जाता है जो लोग विश्वास नहीं कर सकते हैं लेकिन वो सच हो सकता है, यहाँ कुछ घटनाओं को वर्णन है जो कुछ और ही बयां करती है –

सुनील गावस्कर- दुनिया के महानतम क्रिकेटर, भारत के रत्न और ओरिजिनल लिटिल मास्टर।

ईडन गार्डन, कोलकाता – भारतीय क्रिकेट का मक्का, ऐतिहासिक क्रिकेट मैदान, जिसने यह सब देखा है, कई भारतीय जीत, कई रिकॉर्ड, बहुत सारे रन, शानदार मैच, आदि।

सुनील गावस्कर और ईडन गार्डन्स के बीच प्यार और नफरत की कहानी

यह सब 1973 में शुरू हुआ जब गावस्कर पहली बार ईडन गार्डन्स में इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट मैच में खेले, मैच के अंत में भीड़ के लिए प्रशंसा के अलावा उनके पास कहने के लिए कुछ नहीं था, भारत ने 28 रन से एक रोमांचक कम स्कोरिंग मैच जीता और उन्होंने दर्शकों के उत्साह का पूरा आनंद लिया, जैसा कि गावस्कर ने खुद अपनी आत्मकथा ‘सनी डेज’ में बताया है –

जैसे ही हम पेवेलियन में पहुँचे, हम उस भीड़ से घिर गए जो आनंद से लबालब थी। कुछ ने तो हमें अपने कंधों पर उठाया। खेल खत्म होने के काफी देर बाद तक खिलाड़ियों की एक झलक पाने के लिए हमारे होटल के बाहर यह लोग इंतजार कर रहे थे। कलकत्ता की भीड़ सचमुच कमाल की है और यहाँ खिलाड़ियों को नायकों की तरह माना जाता है। सच है, उत्साह थोड़ा बहुत ज्यादा हो सकता है लेकिन यह अच्छे के लिए ही है। कलकत्ता की भीड़ का उत्साह बहुत बहतरीन है और मैं कलकत्ता की भीड़ के सामने खेलना चाहुंगा, लॉर्ड्स में खेलने के बजाए जहाँ तालियां तीन या चार ताली तक ही सीमित हैं। ‘

हालाँकि चीजें बदसूरत हो गईं जब वर्ष 1983 में वेस्टइंडीज ने भारत का दौरा किया, भारत के साथ विश्व कप फाइनल में हार का बदला लेने के लिए। पांचवें टेस्ट में जो ईडन गार्डन्स में हुआ था, बहुत सारे दर्शको ने भारतीय टीम के शानदार प्रदर्शन की उम्मीद करके स्टेडियम पहुँचीं । हालांकि, टेस्ट मैच की पहली ही गेंद पर जब गावस्कर मैल्कम मार्शल द्वारा फेंके गए मैच की पहली ही गेंद पर आउट हो गए और पूरी टीम 241 के स्कोर पर ऑल आउट हो गई तो समस्या शुरू हुई, और भी समस्या तब हुई जब वेस्टइंडीज 8 विकेट पर 213 रन से 377 पर पहुँच गया।
फिर गावस्कर ने तीसरे दिन में गियर्स स्विच किया और तब तक अच्छा खेल रहे थे जब तक कि उन्होंने माइकल होल्डिंग की एक वाईड बोल का पीछा किया और 20 के स्कोर पर आउट हो गए ; स्टंप्स के समय भारत 5 विकेट पर 36 रन था और दर्शक भारतीय टीम के परफॉरमेंस से निराश थी और उनको लगा कि गावस्कर ने गैर जिम्मेदाराना शोट खेलकर अपना विकेट गवाया जबकि टीम गंभीर समस्या में थी, भीड़ ने बु किया और उनको अपमानित किया और फिर उकसाया और भारतीय टीम के कोच पर पथराव भी किया।

उनकी पत्नी मार्शनील के साथ भी बदसलूकी की गई (उनके अनुसार)

जैसा कि गावस्कर ने बाद में Runs ‘n’ ‘Ruins’ में लिखा था –

“मेरा दिमाग खराब हुआ, और मैं कभी माफ़ नहीं करूँगा, इस भीड़ को जिसने मेरी पत्नी पर फल फेंकें और यहाँ ऐसे लोग थे जो संस्कृति के बारे में बात करते हैं और महिलाओं का सम्मान करते हैं,लेकिन श्र एक खिलाड़ी की पत्नी पर फल फेंकते हैं जो उनके लिए तेरह साल से खेल रहा है, और वो भी एक खराब शॉट के लिए? जब बाकी सब भी असफल हो गए थे? तो उसे क्यों? यह तो उसकी गलती नहीं थी। ”

हालाँकि वर्षों बाद उन्होंने अपने विचारों को बदल दिया जैसा कि उन्होंने बाद में वॉर ऑफ़ द विलो (क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ़ बंगाल की स्मारिका) में लिखा था –

” मैं गलतफहमी में था। मैंने जब अपनी पत्नी से पूछा तो उसने बताया कि उस पर कुछ भी नहीं फेंका गया था। शायद किसी के पास मजबूत या सटीक थ्रो नहीं होता! “।

नो कपिल नो टेस्ट

वर्ष 1984–5 में जब इंग्लैंड ने भारत का दौरा किया था, और श्रृंखला अभी भी 1-1 से बराबरी पर थी, तब तीसरा टेस्ट मैच ईडन गार्डन में हुआ, गावस्कर जो पहले से ही अंदर ही अंदर सुलग रहे थे, अपनी पिछले मैच में मिले अशिष्ट व्यवहार के कारण, फिर से उन्हें दर्शकों की तरफ से वही मिल रहा था, कारण था ऑल-राउंडर कपिल देव को इस टेस्ट मैच से ड्रोप कर दिया गया था क्योंकि पिछले टेस्ट मैच में कपिल ने एक गैर जिम्मेदाराना शोट खेलकर अपना विकेट गंवा दिया और भारत अप्रत्याशित रूप से मैच हार गया, हालांकि यह चयन समिति का निर्णय था, लेकिन कलकत्ता के क्रिकेट अनुयायीओं को इसमें केवल गावस्कर हाथ दिखा।

इसलिए लोगों ने उकसाया, अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया और अंत में उस पर फल और उबटन फेंके, ‘नो कपिल नो टेस्ट’ का जाप करते रहे, बदले में गावस्कर ने जो किया वह अविश्वसनीय था , टॉस जीतने के बाद पहले बल्लेबाजी करने के लिए चुना , और बस करते ही रहे बल्लेबाजी, गावस्कर ने चौथे दिन के दूसरे सत्र तक बल्लेबाजी करने का फैसला किया, भीड़ एक तरह से स्तब्ध हो गई; उन्होंने बुइंग को रोक दिया, आखिरकार 200 ओवर के खेल के बाद और लगभग रेंगती हुई बल्लेबाजी के बाद अंततः गावस्कर ने 437/7 पर पारी की घोषणा की। कुछ लोगों का कहना है कि पुलिस द्वारा ऐसा करने के लिए उनसे अनुरोध किया गया था। गावस्कर ने बाद में इनकार किया कि पुलिस ने उन्हें ऐसी कोई चेतावनी दी थी कि कानून और व्यवस्था का खतरा हो सकता है अगर वो पारी की घोषणा में और देरी करते हैं तो, लेकिन गावस्कर ने हालांकि दर्शकों को समझा दिया था कि वो क्या कर सकते हैं ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.