क्रेडिट कार्ड क्या होता है, किस बैंक का क्रेडिट कार्ड हमारे लिए सही है?

क्रेडिट कार्ड एक बैंक का दिया हुआ कर्ज होता है जिसे आप को हर महीने चुकाना होता है उस क्रेडिट कार्ड पर बैंक आपको एक लिमिट दे देती है उस क्रेडिट कार्ड से आप कोई भी सामान शॉपिंग वगैरह कर सकते हैं यही होता है क्रेडिट कार्ड.

 यूको बैंक में खाता था तो मेरे एक दोस्त ने बोला कि क्रेडिट कार्ड ले लो उसके पास तीन चार क्रेडिट कार्ड थे तो मेरे मन में भी खयाल आया क्यों ना क्रेडिट कार्ड ले लिया जाए और मैं गया मैनेजर साहब के पास

तो मैनेजर साहब ने कहा इन चक्रों में मत पढ़ो कोई मतलब नहीं है क्रेडिट कार्ड से यह सब बड़े लोगों का काम है मेरे पहचान के थे मैनेजर साहब

तो मुझे लगा मैनेजर साहब देना नहीं चाहते इसी कारण बोल रहे हैं तो मैंने और बैंकों में भी ट्राई किया पर मुझे नया अकाउंट खुलवाने के लिए बोल रहे थे जो मुझे खोलना नहीं था

फिर मैनेजर साहब की कुछ दिन की छुट्टी थी तो एक मैडम असिस्टेंट मैनेजर से मैंने बात की वह मेरी बहुत पहचान की थी बोला ठीक है फॉर्म भर के दे दो मैं अप्लाई कर देती हूं कुछ दिन में आ जाएगा और सही पर आ गया कुछ दिन बाद मेरी खुशी का ठिकाना नहीं रहा मैंने नए-नए पर खूब पैसे उड़ाए जो भी सामान खरीदना था सब खरीद लेता था

शुरू शुरू में मुझे पता नहीं था कि Re साइकिल क्या कैसा बिल कब आएगा तो कभी-कभी मैं 7 या 8 तारीख को ही पैसे खर्च कर दिया करता था और 10 तारीख को बिल आ जाता था

मैंने सोचा सब बोलते थे 50 दिन बाद क्रेडिट कार्ड का पैसा जमा करना पड़ता है पर मुझे इसके बारे में बिल्कुल नॉलेज नहीं था

फिर मैंने टोल फ्री नंबर पर बात की है उसने बताया की आपको 30 दिन का समय मिलेगा अता हे ओर 15 दिन का बिल जमा करने के लिए मिलगे जो आपको 45 दिन मिलेंगे अब आप 1 तारीख से 10 तारीख तक पैसे खर्च कर लीजिएगा और बिल जनरेट होने के बाद

मेरे पास हर महीने बिल आने लगा तो शुरू में 1 महीने तो मैंने जमा कर दिया क्योंकि मैंने 10000-/ रही खर्च किए थे

पर धीरे-धीरे यह अमाउंट बढ़ता गया और जब भी इकट्ठा आने लगा तुम मुझे समझ नहीं आ रहा मैं क्या करूं तो

मैं उसी दोस्त के पास गया तो उसने बोला एक काम कर तु मिनिमम बैलेंस जमा कर दे तो मैंने मैं मिनियम जमा करना चालू कर दिया विनियम बैलेंस में ब्याज और इंटरेस्ट दोनों लगने लगा

धीरे-धीरे मैंने दो तीन चार महीने में पूरी लिमिट के पैसे खर्च कर दिए और मुझे पता भी नहीं चला कि पैसे कैसे खर्च हो गए कभी कंप्यूटर ले आया तो कभी कुछ भी सामान अनाप-शनाप सामान ले आता

मुझे काफी टेंशन होने लगी यह तो दिन पर दिन बढ़ते जा रहा है क्रेडिट कार्ड का पर 40% से 48% तक ब्याज लगता है और पेनाल्टी अलग से लगती हैं

मैंने कसम ही खा ली थी कि अब मुझे क्रेडिट कार्ड नहीं चलाना है और पैसे चुकाना है तो मैंने धीरे-धीरे दो-तीन महीने 4 महीने में पूरा पैसा जमा कर दिया और उन 4 महीनों में ₹1 भी मैंने फिर उससे खर्च नहीं किया तब मैंने अपने काफी खर्चे में कटौती की जब जाकर तीन चार महीने में पैसे पूरे जमा हो पाए

फिर पैसा जमा होने के बाद मैंने दो-तीन महीने क्रेडिट कार्ड नहीं चलाया और इसी बीच मेरे मोबाइल पर अचानक मेरे पास ओटीपी क्रेडिट कार्ड का आ रहा था मुझे समझ नहीं आ रहा था यह क्या हो रहा है मैं बैंक गया तो बैंक वाले बोले आपने कहीं इसका यूज किया है तो अब मिस यूज कर रहा है आपके पास इसी कारण ओटीपी आ रहा है आप इसे टोल फ्री में बंद करा दीजिए

तो मैंने टोल फ्री नंबर पर फोन लगाया और वहां पर बोला कि मेरा क्रेडिट कार्ड बंद कर दीजिए कोई उसका मिस यूज कर रहा है उन्होंने कहा आप का क्रेडिट कार्ड पहले ही बंद कर दिया गया है आपने 3 महीने एक भी यूज नहीं किया गया है आप क्रेडिट कार्ड को पहले ही बंद कर दिया गया है

अब मुझे दुख हुआ उस दिन मैंने बैंक में फिर कोशिश की बनवाने की लेकिन बाद में मैंने सोचा जो हुआ सब अच्छा हुआ

भाई साहब क्रेडिट कार्ड का जाल बहुत खराब होता है एक बार जो फस गया फंसता जाता है इस कारण मेरी सलाह है यदि आपको जरूरत ना हो तो कोई मतलब नहीं है क्रेडिट कार्ड लेकर फालतू खर्च के भागीदार बनेंगे आप और आपकी मर्जी

Leave a Reply

Your email address will not be published.