खीरे का ऊपरी भाग कड़वा क्यों होता है? जानिए वजह

खीरे की बेल में कुकर बिटासिन नामक एक रासायनिक तत्व पाया जाता है, जो स्वाद में कसैला होता है।

खीरे का ऊपरी भाग पौधे से जुड़ा होने के कारण कुकर बिटासिन की कुछ भाग खीरे के डंठल के मार्फत उसमें भी प्रवेश कर जाता है।

खीरा यदि लंबे समय तक न तोड़ा जाए तो समूचा ही कड़वा हो जाता है।

स्वाद छोड़ दें तो वैसे इसमें नुकसान नहीं है क्योंकि वैज्ञानिकों ने पाया है कि कुकर बिटासिन से कैंसर जैसे रोगों का इलाज संभव है।

इस खीरे में 95% पानी और 5% फाइबर पाया जाता है। कब्‍ज, एसिडिटी, सीने में जलन या गैस्‍ट्रिक की कोई भी समस्‍या हो तो वह खीरे के लगातार सेवन से सही हो सकती है।

खीरा बहुत गुणकारी है, यह तो सभी जानते हैं। इसीलिए खीरे का ऊपरी हिस्सा अगर कड़वा हो तो उसे हटाकर बाकी खीरा अच्छा भी हो सकता है। खीरे में विटामिन बी और कार्बोहाइड्रेट होता है, जो तुरंत एनर्जी देता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.