गैस सिलेंडर के साथ मिलता है 6 लाख का मुफ्त बीमा, जानिए कैसे

ऐसी बहुत सी योजनाएं हैं जिनके बारे में अधिकांश लोगों को पता नहीं होता. ऐसा ही कुछ हमारे घरों में प्रयोग हो रहे हैं एलपीजी सिलेंडर से जुड़ी योजनाओं के बारे में भी है. इन्हीं में से एक सिलिंडर पर मिलने वाला इंश्योरेंस कवर है,

यह इंश्योरेंस कवर कनेक्शन लगने के पहले दिन से शुरू हो जाता है. अगर किसी वजह से एलपीजी सिलेंडर के ब्लास्ट में किसी की मौत होती है तो गैस कंपनी प्रति व्यक्ति छह लाख रुपये मुआवजे के रूप में देती है,

वहीं गैस सिलेंडर के ब्लास्ट में अगर कोई घायल हो जाता है तो उसके इलाज के लिए अधिकतम दो लाख रुपये मिलते हैं. इसके साथ ही यदि सिलेंडर ब्लास्ट में किसी की संपत्ति को नुकसान पहुंचता है तो इसके लिए दो लाख रुपये तक मिलते हैं,

कैसे करना है क्लेम ?

गैस सिलिंडर से अगर कोई हादसा होता है तो सबसे पहले आपको लोकल पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज करवानी होगी. इसके बाद अपने गैस डिस्ट्रीब्यूटर को एफआईआर की कॉपी देनी होगी. डिस्ट्रीब्यूटर इस रिपोर्ट को तेल कंपनी के पास पहुंचाएगा,

तेल कंपनी की तरफ से बीमा कंपनी की एक टीम जांच के लिए आएगी. यह टीम क्लेम की राशि भी तय करेगी. क्लेम राशि का भुगतान तेल कंपनी को करना होगा. तेल कंपनी इसे अपने वितरक के पास भेजेगी, जो बाद में ग्राहक या फिर उसके परिवारजन को दिया जाएगा. इस जुड़ी ज्यादा जानकारी के लिए इंनकी ऑफिसियल वेबसाइट पर जाकर जांच कर सकते है,

बीमा की रकम लेने के लिए पूरी करनी होती हैं ये शर्तें: शर्तों के तहत आपके घर में इस्तेमाल होने वाला गैस कनेक्शन वैध होना चाहिए। साथ ही आईएसआई मार्क वाले गैस चूल्हे का ही उपयोग होना चाहिए। गैस कनेक्शन में एजेंसी से मिली पाइप-रेग्युलेटर ही इस्तेमाल हो। गैस इस्तेमाल की जगह पर बिजली का खुला तार न हो। चूल्हे का स्थान, सिलेंडर रखने के स्थान से ऊंचा होना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.