चक्रवाती तूफान ताउते की तबाही के बाद यास चक्रवात मचा सकता भारी तबाही

चक्रवाती तूफान ताउते की तबाही के बाद यास चक्रवात भी भारी कहर बरपा सकता है। बंगाल की खाड़ी) में उठे निम्न दाब के केंद्र ने अब विकराल चक्रवात ‘यास’ का रूप ले लिया है। यास चक्रवात के कारण मौसम विभाग ने कई राज्यों में तेज बारिश का अनुमान जताते हुए अलर्ट जारी कर दिया है। केंद्र सरकार समेत राज्य सरकारें इस तूफान से निपटने के व्यापक प्रय़ासों में जुटी हुई है। एनडीआरएफ की कम से कम 99 टीमें विभिन्न स्थानों पर तैनात की गई है। पूर्वी रेलवे ने यास चक्रवात के मद्देनजर 24 मई से 29 मई के बीच चलने वाली 25 ट्रेनों का संचालन रद कर दिया है।

ताजा जानकारी के मुताबिक यास चक्रवात उत्तर-उत्तर-पश्चिम की ओर धीरे-धीरे बढ़ने लगा है। इसकी गति तेज होकर यह भीषण चक्रवाती तूफान में बदल जाएगा। मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने कहा है कि अगले 24 घंटों के दौरान गंभीर चक्रवाती तूफान उत्तर-उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ना जारी रखेगा, और 26 मई की सुबह तक उत्तर ओडिशा और पश्चिम बंगाल तटों से टकराएगा। इस दौरान तूफानी हवाएं 180 किलोमीटर प्रति घंटे की स्पीड से चल सकती हैं।

चक्रवात के मद्देनजर NDRF की 99 टीमें ओडिशा, पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु व अंडमान व निकोबार द्वीप समूह में मोर्चे पर तैनात है। मौसम विभाग के मुताबिक 26 मई और 27 मई को असम व मेघालय में वहीं 28 मई को बिहार में मध्यम से भारी बारिश का अनुमान है। इसके अलावा 26 मई को ओडिशा व पश्चिम बंगाल में भी भारी वर्षा होने की पूरी संभावना है।

केंद्र सरकार यास के चक्रवात पर नजर रखे हुआ है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए ओडिशा, आंध्र प्रदेश, पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्रियों और अंडमान-निकोबार द्वीप समूह के उपराज्यपाल के साथ बैठक की और चक्रवात यास के लिए की गई तैयारियों की समीक्षा की। इससे निपटने की लगातार रणनीति बनाई जा रही है और स्थिति की समीक्षा की जा रही है। गृहमंत्री ने असम, सिक्किम व मेघालय की तैयारियों का जायजा लिया। इमरजेंसी सेवाओं को सूचित कर सक्रिय कर दिया गया है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *