चिया सीड्स को हिंदी में क्या कहते हैं? इसको खाने के क्या फायदे होते हैं?

चिया सीड्ज़ तो अमेरिका से भारत में आए हैं. एक तो यह खुद भी इतना छोटा सा होता है, ऊपर से इसका नाम भी इतना छोटा तो अब इसका हिंदी में अलग से क्या नाम रखना. हम इसे चिया बीज ही कह लेते हैं.

चिया बीज को सुपरफूड कहा जाता है क्योंकि चिया बीज में फाइबर, मिनरल्स, प्रोटीन आदि भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं. जो लोग अपनी सेहत का खास ध्यान रखते हैं, वो अपनी डाइट में इसे ज़रूर शामिल करते हैं. चिया बीज में कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम और पोटेशियम पाया जाता है. इन बीजों में ओमेगा- 3 फैटी एसिड के साथ अन्य मिनरल्स भी अच्छी मात्रा में पाए जाते हैं.

अगर इसका सेवन रोजाना सही मात्रा में किया जाए तो यह बहुत स्वास्थ्यवर्धक हो सकया है. यह वजन कम करने में मदद कर सकता है इसके अलावा यह उन लोगों के लिए भी फायदेमंद साबित हो सकता है जो पुराने कब्ज की बीमारी से गुजर रहे हैं. इन्हीं कारणों से चिया बीज अब अधिकतर लोगों की डाइट का महत्त्वपूर्ण हिस्सा हैं. इसको आप कई तरीके से खा सकते हैं जैसे कि स्मूदी, ग्रेनोला बार, डेज़र्ट और बेक्ड चीजों में. या फिर आप इन्हें सलाद में मिलाकर भी खा सकते हैं.

28 ग्राम चिया बीज में पोषण-

प्रोटीन- 4 ग्राम

फाइबर- 11 ग्राम

फैट- 9 ग्राम

कैल्शियम- 18% आरडीआई

मैंगनीज- 30% आरडीआई

मैग्नीशियम- 30% आरडीआई

फास्फोरस- 27% आरडीआई

चिया बीज के फायदे सेहत से खाततौर पर जुड़े हुए हैं. यह फाइबर के साथ -साथ ओमेगा-3 फैटी एसिड से भी भरपूर होता है जिस कारण आपका शरीर कई बीमारियों जैसे- दिल की बीमारी, हाई ब्लड प्रेशर, कोलेस्ट्रॉल आदि से भी बचा रहता है. सही मात्रा में चिया बीज का सेवन करना सेहतमंद जिंदगी की शुरुआत है.

सबसे अच्छी बात यह है कि इसको खाने में कोई मेहनत नहीं है. इसको आप किसी भी भोजन में कच्चा ही मिला कर खा सकते है.

वैसे तो आपने पूछा नहीं है लेकिन बताना मेरा फ़र्ज़ है कि किसी भी चीज़ के अगर फ़ायदे हैं तो नुक़सान भी है. खाना भी शरीर की ज़रूरत के अनुसार ही खाना चाहिए. आमतौर पर दिन में दो बार 20 ग्राम यानि की 1.5 चम्मच चिया बीज का सेवन किया जा सकता है. कुछ लोगों को चिया बीज से एलर्जी भी हो सकती है. अगर आप किसी तरह की दवाई ले रहे हैं तो चिया बीज का सेवन डॉक्टर से पूछ कर ही करें. कई बार चिया बीज छोटे होने के कारण लोग इसको ज्यादा मात्रा में एक साथ खा लेते हैं. ऐसा करने से कई बार चिया बीज गले में अटक सकते हैं और सांस लेने में परेशानी हो सकती है.

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *