जन्नत क्या है? वहाँ क्या इनाम मिलेगा? जानिए

इस्लाम धर्म के अनुसार छठवें और सातवें आसमान के बीच जन्नत स्थित है। यह धर्मी का अंतिम निवास स्थान है जहां सभी अल्ल्लाह पर विश्वास रखने वाले जाते हैं। (सूफी दर्शनशास्त्रियों के अनुसार)

कुरान में जन्नत- कुरान में जन्नत का सुखद वर्णन किया गया है। वह इस प्रकार है-

1- जब कोई व्यक्ति जन्नत पहुंचता है तब प्रत्येक दरवाजे पर स्वर्ग दूत उनका अभिवादन करता है और कहता है- तुम को शांति मिले, तुम धीरज के साथ धीरज रखते हो उसी का कितना सुंदर फल है यह जन्नत, निसंदेह खुदा धीरज रखने वाले के साथ है।

2- सभी जन्नतवासी स्वर्ग के बगीचे में ईश्वर के साथ रहते हैं। उस बगीचे में सुंदर कोलाहल करती हुई नदियां, झरने और दूध की धारा बहती है। यह बगीचा पृथ्वी की चौड़ाई के बराबर है।

3- प्रत्येक बगीचे में एक हवेली, ऊंचा सिंहासन, बेशकीमती पोशाक , अद्भुत सुरा, मांस और फल उपलब्ध है जैसा कि पृथ्वी पर है।

4- प्रत्येक स्त्री और पुरुष के लिए सुंदर और शुद्ध साथी मिलेगा, और सेवा करने के लिए नौकर चाकर।

5- वह जो सुखी है – बिना दुख, दुःख, भय या लज्जा के- जहाँ हर इच्छा पूरी होती है। परंपराओं का संबंध है कि निवासी एक ही उम्र (33 वर्ष) के होंगे, महिलाओं और पुरुषों के लिए सुंदर युवतियां, कीमती पत्थरों, स्वादिष्ट खाद्य पदार्थ, और लगातार बहने वाले पानी उपलब्ध होंगे।

6- जन्नत में हर एक चीज उपलब्ध होगी, मनुष्य अपने प्रियजनों के साथ भी रह सकता है बशर्ते उन्हें भी जन्नत में प्रवेश मिला हो।

7- जन्नत का एक दिन पृथ्वी के हजार साल के बराबर होता है।

8- साहन, जहान , फरात और निल दरिया वहां बहते हैं।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *