जादुई केबल कार की पढ़े दिलचस्प कहानी

एक गाँव में मोतीलाल नाम का एक आदमी रहता था।उसके परिवार में उसके माता पिता बीबी और एक बेटा साथ मिलकर रहते थे।मोतीलाल गाँव में सब्जी बेचकर अपने परिवार का पेट भरता था।परिवार की हालत देखकर मोतीलाल किसी भी मौसम में सब्जी बेचने चले जाता था।मोतीलाल को अपने परिवार की बोहत चिंता थी पर परिवार को मोतीलाल की कुछ भी चिंता नहीं थी।

एक दिन मोतीलाल सब्जी बेचकर थका हुवा घर आया तब अपने बीबी को पाणी माँगा तब उसकी बीबी कहने लगी की,’अभी अभी तो मैंने टीव्ही चालु की और तुम आगये,अपने हात से ही पाणी निकालके पिलो,मैं थोड़ा टीव्ही देखती हु’।बेचारा मोतीलाल खुद पाणी निकालकर पिने लगा।उसके बाद मोतीलाल अपने बेटे के पास गया और उससे पूछने लगा की,’बेटा मैंने जो पैसे दिये थे उससे तुमने लाईट बिल भरा क्या’ तब बेटा कहने लगा,’अरे पापाजी आपने जो पैसे दिए थे उससे मैंने तो अपने मोबाईल में रिचार्ज कर लिया,अब लाईट बिल के लिए और दो’ यह बात सुनकर मोतीलाल परेशान हो गया।

अगले दिन मोतीलाल के पिताजी दवाई होने के बाद भी दवाई बताने लगे और उसकी माँ भी शुगर होने के बाद भी मोतीलाल से मिठाई लाने की बात कहने लगी।बेचारा मोतीलाल परेशान होकर आत्महत्या करने एक पहाड़ पर चला गया।जब पहाड़ वो पहाड़ से निचे कूद रहा था तब अचानक उसके सामने एक जादुई केबल कार आगयी और उसमे मोतीलाल को बिठाकर पैसे की दुनिया में लेकर गयी।

मोतीलाल ने वहाँ से कुछ पैसा उठाया और फिर से उस जादुई केबल कार में बैठ गया।जादुई केबल कार उसे पहाड़ पर लेकर गयी और वहाँपर उतार दिया।मोतीलाल फिर अपने घर गया और जादुई केबल कार के बारे में सब बताया।पर घर के सभी लोग उसकी बात सुनकर नाराज हो गये क्योंकी मोतीलाल वहाँपर आत्महत्या करने गया था।मोतीलाल ने अपने घर वालो को बताया की वह आत्महत्या करने आखिर क्यों गया था तब घर के सभी लोगो को अपनी गलती का एहसास हुवा और वे सब मोतीलाल से माफ़ी माँगने लगे।उसके बाद वे सब मिलकर मोतीलाल के काम में हात बटाने लगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.