जानिए आखिर क्यों मनाई जाती है बुद्ध पूर्णिमा

Spread the love

इस वर्ष बुद्ध पूर्णिमा का पर्व 26 मई 2021 को है। ऐसे में आप सभी को बता दें कि बुद्ध पूर्णिमा न केवल बौद्ध धर्म के लिए बल्कि हिंदुओं के लिए भी महत्वपूर्ण है। दरअसल कहा जाता है कि बुद्ध विष्णु के नौवें अवतार हैं। बुद्ध पूर्णिमा को हिंदुओं के लिए भी पवित्र माना जाता है। अब आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि बुद्ध पूर्णिमा क्यों मनाई जाती है।

बुद्ध पूर्णिमा क्यों मनाई जाती है – ऐसा कहा जाता है कि जब बुद्ध भगवान ने अपने जीवन में हिंसा, पाप और मृत्यु के बारे में सीखा, तभी उन्होंने मोह छोड़ दिया और उन्होंने अपने परिवार को छोड़ दिया और सभी जिम्मेदारियों से मुक्त हो गए। इसके बाद वह सच्चाई की तलाश में निकल पड़े। अंत में उन्हें सच्चाई का पता चला और वैशाख पूर्णिमा की तिथि का भगवान बुद्ध के जीवन की प्रमुख घटनाओं से विशेष संबंध है। इसी वजह से हर वैशाख पूर्णिमा को बौद्ध धर्म में बुद्ध पूर्णिमा के रूप में मनाया जाता है।

कहा जाता है कि भगवान बुद्ध 29 वर्ष की आयु में सेवानिवृत्त हुए थे। दरअसल, उन्होंने बोधगया में पीपल के पेड़ के नीचे छह साल तक कठिन तपस्या की थी और वह बोधि वृक्ष अभी भी बिहार के गया जिले में स्थित है। कहा जाता है कि बुद्ध भगवान ने अपना पहला उपदेश सारनाथ में दिया था। वैशाख पूर्णिमा के दिन ही भगवान बुद्ध का 483 ईसा पूर्व में पंचतत्व में विलय हुआ था। ऐसे में इस दिन को परिनिर्वाण दिवस के रूप में भी जाना जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *