जानिए क्या होता है मिड सीजन ट्रांसफर और क्या होते हैं इसके नियम जाने पूरा विवरण

1. दोस्तों इस का पहला नियम यह है कि दोनों टीमों के मालिकों की आपसी सहमति होनी चाहिए। दोस्तों यदि दोनों टीमों के मालिकों की आपसी सहमति है तभी टीम का प्लेयर मेडिसीजन ट्रांसफर का उपयोग कर सकता है ।

2.दूसरा नियम इसका दूसरा नियम यह है कि मिड सीजन ट्रांसफर में कोई भी टीम अपने खिलाड़ी को लोन पर दे भी सकती है और प्लेयर को ले भी सकती है ।

3.दोस्तों में डिसीजन ट्रांसफर का तीसरा नियम यह है कि यदि कोई खिलाड़ी दो या दो से अधिक मैचों में किसी टीम के लिए चुका है तो वह मेडिसीजन ट्रांसफर का ऐसा नहीं हो सकता है। वह इस नियम का लाभ नहीं उठा सकता है। इस नियम का लाभ उठाने के लिए प्लेयर को कम से कम 2 या उससे कम मैच भी खेलने चाहिए। यदि कोई प्लेयर अपनी टीम बदलना चाहता है तो वह केवल अपनी टीम के लिए एक या दो मैच ही खेल चुका होना चाहिए।दोस्तों इस नियम के आने से आईपीएल और भी रोचक हो गया है और अब देखना होगा कि कौन-कौन से खिलाड़ी अपनी टीम को बदलते हैं और दूसरी टीम में जाकर क्या कमाल कर पाते हैं देखना काफी रोचक होगा क्योंकि कुछ खिलाड़ी इस समय इस नियम का फायदा उठाना चाह रहे हैं।इस बार के आईपीएल में यह भी देखा जा रहा है कि कई टीमें खिलाड़ियों को अपनी टीम में लाने के लिए उनसे संपर्क भी कर रही हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.