जानिए शिवजी की तीसरी आँख का रहस्य क्या है?

भगवान शिव ने पृथ्वी को कई बार विनाश से बचाता है। जब भी वह तीसरी आंख खोलता है, यह आपातकाल और परेशानी का संकेत देता है। बुराई के लिए एक मुसीबत।

शिव और कामदेव

एक बार जब कामदेव ने ध्यान में रहने के दौरान भगवान शिव को विचलित करने की कोशिश की, तो वह क्रोधित हो गए और क्रोध में अपनी तीसरी आंख खोल दी। उनकी तीसरी आंख ने कामदेव को नष्ट कर दिया, जैसा कि कई लोगों ने माना है। इसलिए, उसकी तीसरी आंख आग का प्रतीक है। यह सभी भौतिकवादी इंद्रियों के लिए एक संकेत है कि उन्हें आध्यात्मिकता के मार्ग में बाधा डालने की कोशिश नहीं करनी चाहिए।

भगवान शिव और देवी पार्वती

फिर भी एक और कहानी यह है कि एक बार देवी पार्वती ने भगवान शिव की आंखें मस्ती के लिए बंद कर दीं, पूरा ब्रह्मांड काला हो गया। भगवान शिव की दो आंखें सूर्य और चंद्रमा का प्रतीक हैं। इसलिए जब देवी ने अपनी आँखें बंद कर लीं, तो कोई रोशनी नहीं बची थी। इसलिए, ब्रह्मांड के लिए रोशनी लाने के लिए भगवान शिव को अपनी तीसरी आंख खोलने पड़ी।

रोगियों के लिए एक गाइड

भगवान शिव की यह तीसरी आंख आत्मज्ञान और जागृति का भी प्रतीक है। यह उनके ज्ञान को योगी के रूप में दर्शाता है। यह सभी रोगों और उनके बाद आने वाले लोगों और आज के लोगों के लिए एक प्रेरणा है। भगवान शिव एक योगी थे और उन्होंने निरंतर ध्यान के वर्षों के बाद आत्मज्ञान प्राप्त किया था। तीसरी आंख ध्यान और धार्मिकता की आंख है। यह संतों और संतों के लिए एक मार्गदर्शक है जो उनके बाद आए। उन्हें वास्तविक जागरण का लक्ष्य रखना चाहिए। भगवान शिव की तीसरी आंख ने उन्हें अतीत और भविष्य को देखने में मदद की। जिन साधनों ने ध्यान लगा लिया है, उन्हें एक ऐसा स्तर हासिल करने का प्रयास करना चाहिए जिससे वे भविष्य के बारे में सोच सकें। तीसरी आंख अतिरिक्त ज्ञान और बुद्धि का प्रतीक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.