जानिए सरसों के तेल से मालिश करने के फायदे

सरसों का तेल बहुत पोष्टिक होता है। इसलिए इसका प्रयोग हम हमारे दैनिक जीवन में खाना बनाने के लिए भी करते हैं। बहुत से लोगों के घरों में घी की जगह खाना बनाने सरसों के तेल का उपयोग किया जाता है। इसकी तसीर गर्म होती है। इसलिए यह सर्दियों में अत्यंत लाभकारी होता है। सरसों के तेल की मालिश करने से शरीर की मांसपेशियां मजबूत होती है और रक्त संचार सुचारू रूप से अपना काम करता है।

सिर पर सरसों के तेल की मालिश करने से आंखें अच्छी रहती है। हफ्ते में दो बार हमें अपने सिर में सरसों के तेल की मालिश अवश्य करनी चाहिए। यह मालिश हमारे मालूम की हेल्थ के लिए भी बहुत ही अच्छी होती है।

25 मिलीलीटर नींबू का रस और 20 मिलीलीटर सरसों के तेल को मिलाकर लगाने से जूं नष्ट हो जाती है। जिस किसी को भी जूं की समस्या है। उसे इस प्रयोग को एक बार जरूर करके देखना चाहिए।

सेंधा नमक में सरसों का तेल मिलाकर गर्म करें। रात को इस तेल को अंगुलियों पर लगाकर मौजे पहनकर सोने से मिट जाती सूजन है। सर्दियों के मौसम में कुछ लोगों की पैरों की उंगलियां शूज जाना आम बात होती है। तो वे लोग इस प्रयोग को करके राहत पा सकते हैं।

हल्दी को बारीक पीसकर सरसों के तेल में मिलाकर रोजाना रात को सोने से पहले दांत व मसूढ़ों पर मले। इससे दांत व मसूढों के सभी रोग दूर होते हैं। व दांतो का पीलापन भी दूर होता है।

सरसों के तेल में कपूर तथा तथा तारपीन का तेल मिलाकर रोगी के सीने पर मलने से निमोनिया रोग मे लाभ होता है।

50 मिलीलीटर सरसों के तेल में 5 ग्राम कपूर मिलाकर मालिश करने से दर्द में फायदा होता है।

सिर के जिस तरफ दर्द होता है नाक के उस नथुने में 8 बूंद सरसों का तेल डालकर या सूंघने से आधे सिर का दर्द दूर हो जाता है। ऐसा लगातार 5 दिनों तक करना चाहिए।

सरसों के तेल मे सेंधा नमक मिलाकर छाती पर मलने से कफ आसानी से निकल जाता है और खांसी कम हो जाती है।

यह हमारे शरीर के किसी भी भाग में फंगस को बढ़ने से रोकता है। इससे बालों का झड़ना बंद हो जाता है। यह शरीर की कार्य क्षमता को बढ़ाकर शरीर की कमजोरी को दूर करने में सहायता करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.