जानिए सोने से पहले सिर्फ 1 लौंग खाकर पानी पीने से कौन सी बीमारी दूर हो जाएगी?

लौंग को आयुर्वेदिक निघण्टु में संक्रमण नाशक बताया है। रात को आधी लौंग ही लेवें। एक लौंग गर्मी व खुश्की पैदा करेगी। वैसे यदि लौंग को दांतों के नीचे दवाकर सोएं तो अत्यंत हितकारी रहेगा।

लौंग की खोज राजा कर्ण ने की थी। वे हमेशा अपने कानों में रोज पहनने थे, इसलिए लौंग का एक नाम कर्णफूल भी है।

जातक-परिजात और आयुर्वेद ज्योतिष उपाय के अनुसार जिन जातकों का केतु कमजोर हो या जिन्हें मानसिक तकलीफ हो या फिर मिर्गी की शिकायत हो, तो दोनों कानों में छेद कराकर रोज नई लौंग पहना दें चमत्कारी लाभ होता गए।

मन्द बुद्धि बच्चों के उलट कान में फूल वाली लौंग पहनने से बुद्धि मन्दता रोग दूर होता है। एक बार आजमाकर देखें।

जिन लोगों को डर-भय-भ्रम सताता हो, मनोबल कमजोर हो, रोगों का डर हो इन्हें रविवार के दिन 27 लौंग की माला सफेद धागे या कलावा में बनाकर दुपहर 11.56 से 12.48 के बीच दिपक की लौ दिखाकर पहननी चाहिए।

लौंग के बारे में विस्तार से पढ़ने के लिए अमृतमपत्रिका गूगल पर सर्च करें। यहां पर 4000 से अधिक ब्लॉग उपलब्ध हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.