जानिए हनुमान जी की आराधना करने से क्यों प्रसन्न होते हैं शनिदेव

आप जानते हैं कि अगर किसी की कुंडली में शनि भगवान का दोष आ जाए तो उस व्यक्ति को जीवन में अनेकों प्रकार की परेशानी है तकलीफों का सामना करना पड़ता है क्योंकि इस कुंडली में शनि अपना जगह बना लेते हैं उस व्यक्ति का जीवन बर्बाद किए और बढ़ने लगता है लेकिन क्या आप जानते हैं कि अगर आप मंगलवार के दिन अगर हनुमान जी की पूजा विधि विधान से करेंगे तो आपको शनि दोष से छुटकारा मिल जाएगा।

लेकिन अब आपके मन में यह सवाल आएगा कि आखिर हनुमान जी की आराधना करने से शनि का दोस्त दूर की हो जाता है तो चलिए मैं इसके पीछे के कहानी आपको बताता हूं ऐसा कहा जाता है कि जब रावण ने माता सीता का हरण किया तो वह उन्हें हरण कर जब लंका की तरफ जा रहा था उसने अपनी शक्ति के बल पर शनि भगवान को बंदी बना लिया था और जब हनुमान जी माता सीता को खोजते हुए रावण का पिता का रहता तो मैं रास्ते में शनि भगवान पंडित रूप में दिखाई दिए तब शनि भगवान ने उनसे प्रार्थना की कि उन्हें इस प्रकार के जंजाल से मुक्ति दिलाएं।

उसके बाद भगवान हनुमान जी ने शनि भगवान को उससे जंजाल से मुक्त जुलाई तक भगवान शनिदेव ने हनुमान जी से कहा कि आप कुछ वरदान के रूप में आप मुझसे बात करते हैं तब भगवान हनुमान जी ने कहा कि आप मुझे बढ़ा दीजिए कि जो भी व्यक्ति मेरी राधा करेगा उसके कुंडली में आपका दोस्त कभी नहीं आएगा और आप ऐसे व्यक्ति को कभी भी हानि नहीं पहुंचाएंगे।

इसके बाद सनी भगवान ने भगवान हनुमान जी को बसंत दिया कि जो व्यक्ति आपकी हर अदा सच्चे मन से करेगा उसके कुंडली में मेरा दोष समाप्त हो जाएगा और मैं कभी भी उसके कुंडली में प्रवेश नहीं करूंगा इस प्रकार तभी से भगवान हनुमान जी की पूजा अर्चना करने से आपके कुंडली से भगवान शनिदेव का दोष दूर हो जाता है जो अपने आप में एक महत्वपूर्ण जानकारी है क्योंकि बहुत कम लोगों को मालूम होगा।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *