जोधपुर बूम क्या था?

जोधपुर बूम एक गगनभेदी ध्वनि थी जिसे 18 दिसंबर 2012 को सुबह 11:25 बजे जोधपुर भारत के आसमान में सुना गया था।

जोधपुर के नागरिक काम पर जाने के लिए उस दिन तैयार हो रहे थे, जब आकाश में अचानक एक गगनभेदी ध्वनि सुनी तब सभी लोग बहुत डर गए थे। यह किसी तरह के सुपरसोनिक बूम की तरह लग रहा था और बहुत जोर से था और जोधपुर में सभी ने इसे सुना।

कुछ लोगों ने सोचा कि यह किसी प्रकार का एक भयंकर विस्फोट या पृथ्वी से टकराने वाला उल्का पिंड है, लेकिन इस इलाके के आसपास कहीं भी कोई क्षति नहीं देखी गई। कुछ ने इसे कैलेंडर से जोड़ा, जो 2012 में पृथ्वी की भविष्यवाणी को नष्ट कर देगा। लेकिन निश्चित रूप से, जैसा वो लोग सोच रहे थे वैसा कुछ भी नही था।

सबसे पहले, कुछ लोगों ने कहा कि शायद यह क्षेत्र में वायु सेना का परीक्षण था। लेकिन भारतीय रक्षा प्रवक्ता ने कहा कि इसका वायु सेना से कोई लेना-देना नहीं है। तो, यह सुपरसोनिक बूम क्या था जिसने खिड़कियों को चकनाचूर कर दिया था?

खैर, अभी भी कोई नहीं जानता इस घटना के बारे में और संयुक्त राज्य अमेरिका में इस दिन भूवैज्ञानिकों के लिए एक बड़ा भारतीय रहस्य बना हुआ है। और यूनाइटेड किंगडम ने भूकंपीय रीडिंग की सूचना दी जो उन्होंने पहले कभी नहीं देखी थी। कुछ लोग कहते हैं कि इसका जोधपुर की तेजी से जुड़ाव होना चाहिए। लेकिन किसी को यकीन नहीं है कि यह सिर्फ एक अविश्वसनीय रूप से आकाश में सुनाई देने वाला शोर है, लेकिन इसके बारे में कुछ भी ज्ञात नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.