डायनासोर के बारे में रोचक तथ्य कौन से हैं?

साल 2015 में वैज्ञानिकों ने एक नए प्रकार के डायनासोर की खोज की है !
ये जानवर एक दिन में करीबन 1 टन पौधे खा लेते है !
हम सोचते हैं कि Dinosaur बहुत बड़े जानवर हुआ करते थे लेकिन असल में वे इंसान जितने बड़े !
जो डायनासोर्स मांस खाते थे, उनके नाखुन नुकीले थे और जो पौधे खाते थे उनके नाखुन छोटे हुआ करते है !
ये धरती पर करीबन 23 करोड़ साल पहले पाए गए थे और लगभग 6.5 करोड़ साल पहले विलुप्त हो गए है !
सबसे पहला डायनासोर जो पाया गया था उसे Eoraptor कहा जाता है !
उनके कमर की हड्डी के आकार पर आधारित Dinosaur को दो भाग में बाँटा जाता है!
सबसे पहले जो डायनासोर पाए गए थे वे छोटे हुआ करते थे बड़े वालों की उपस्थिति बाद में हुई!
डायनासौर के बारे में रोचक तथ्य

किसी को नहीं पता कि इस जानवर का जीवन काल कितना था लेकिन कुछ वैज्ञानिक कहते हैं कि इनका जीवन काल लगभग 200 साल का है !
कहा जाता है कि डायनासोर के 1000 प्रकार हुआ करते है !
इनके अंडे एक गेंद के जितने हुआ करते है !
सबसे पहले डायनासोर्स मांसाहारी हुआ करते है ! कुछ सालों बाद ही शाकाहारी वाले पाए गए है !
लगभग सभी Dinosaur की पूछ होती थी डायनासोर की एक प्रजाति की पूँछ 45 फीट लंबी तक पाई गई है! यह पूछ इन्हें चलने और दौड़ने में सहायता प्रदान करती है !
Dinosaur के मुँह 50 दत्त होते है ! जिससे वह भी जिव हड़िया आसानी तोड़ सकते है !
डायनासौर करीबन 20 मिल प्रति घंटे की रफ़्तार से दौड़ सकता है !
सबसे पहले पृथ्वी पर बहुत छोटे आकार के डायनासोरों की उत्पत्ति हुई ! बड़े डायनासोर जुरासिक और क्रितेशीयस युग में उत्पन्न हुए है !
कुछ डायनासोर्स का वज़न एक मगरमच्छ के वज़न से 8 गुना ज़्यादा होता है !
सौरोपौड नाम का एक डायनासोर दुनिया का सबसे बड़ा जानवर माना जाता है ! वे एक जिराफ से दो गुना ज़्यादा लम्बा हुआ करते है !
उन्नीसवीं सदी में पहला डायनासोर जीवाश्म मिलने के बाद से डायनासोर के टंगे कंकाल दुनिया भर के संग्रहालयों में प्रमुख आकर्षण बन गए हैं ! Dinosaur दुनियाभर में संस्कृति का एक हिस्सा बन गये हैं ! और लगातार इनकी लोकप्रियता बढ़ रही है ! दुनिया की कुछ सबसे ज्यादा बिकने वाली किताबें डायनासोर पर आधारित हैं !
दो पैरों के निशान के बीच कितनी जगह है ! इस बात पर आधारित वैज्ञानिक बता सकते हैं ! कि कौनसा Dinosaur कितना तेज़ भागता या चलता है !
डायनासौर की प्रजाति कैसे विलुप्त हुई

इस पृथ्वी पर Dinosaur का अंत कैसे हुआ? इस बारे में कहा जाता है ! कि एक बहुत बड़ा एस्टेरॉइड धरती से टकराया था और इस विस्फोट ने धरती पर उपस्थित इन विशालकाय Dinosaur का वजूद ही मिटा दिया है !ऐसा कहा जाता है कि यह एस्टेरॉइड 6.6 करोड़ साल पहले मेक्सिको के योगटन प्रायद्वीप से टकराया था ! और वहां पर 111 मील चौड़ा और 20 मील गहरा गड्ढा बन गया था ! जब वैज्ञानिकों ने इस गड्ढे की जांच की तो वहां की चट्टान में सल्फर कंपाउंड पाया गया है ! एस्टेरॉइड की टक्कर से यह चट्टान भाप में बदल गई थी जिसने हवा में धूल का बादल बना दिया था !

Dinosaur इसके परिणाम स्वरूप पूरी धरती अजीब परिस्थितियों में एकदम ठंडी हो गई है ! और पूरे एक दशक तक इसी स्थिति में रही ! उन हालातों में अधिकतर जीवो की मौत हो गई है ! उनमें Dinosaur की मौत विस्फोट के चलते पैदा हुई सुनामी के कारण खाने की चीजों के अंत होने से या आसमान से गिरी पिघली हुई चट्टानों की वजह से हुई होगी है !वैज्ञानिकों का मानना है कि एस्ट्रॉयड की टक्कर इतनी जबरदस्त थी कि इससे धरती पर जीवन को तीन बार खत्म किया जा सकता है ! इसमें अधिकतर Dinosaur ही मृत्यु को प्राप्त हुए लेकिन बाद में इस घटना से छोटे स्तनपाई पैदा हुए और आखिरकार इंसान का वजूद सामने आया है !

Leave a Reply

Your email address will not be published.