दवाइयों के पत्तों पर लाल रंग की पट्टी क्यों बनी होती हैं? जानिए

लाल रंग की पट्टी वाली दवाइयों का मतलब होता है कि उसे डॉक्टर द्वारा वेरीफाई किए बिना नहीं लेना चाहिए । यहां तक कि मेडिकल स्टोर वाले भी ये दवाइयां बिना डॉक्टर की पर्ची के नहीं बेच सकते ।

इन दवाओं का इस्‍तेमाल खास मर्ज की रोकथाम के लिए किया जाता है । इन दवाओं के प्रयोग के लिए डॉक्‍टर्स खास तरह की जांच करते हैं । फिर मरीज को ये दवाएं दी जाती है । एंटीबायोटिक दवाओं का गलत तरीके से इस्तेमाल रोकने के लिए ही दवाइयों पर लाल रंग की पट्टी लगाई जाती है ।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कुछ समय पहले ट्वीट कर बताया था कि डॉक्टर की सलाह लिए बगैर आपको दवाइयों का सेवन नहीं करना चाहिए. खासतौर पर लाल लकीर वाली दवाओं को । पोस्ट में लिखा था, ‘जिम्मेदार बनें और बिना डॉक्टर की सलाह के लाल लकीर वाली दवाई की पत्ती से दवाइयां न खायें. आप जिम्मेदार, तो दवाई असरदार ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.