नीलकंठ को पूजा पक्षी क्यों माना जाता है? जानिए

कहा जाता है कि भगवान विष्णु के लिए इसकी पूजा की जाती है, और दशहरा या दुर्गा पूजा के अंतिम दिन जैसे त्योहारों के दौरान इसको देखा जाना शुभ माना जाता है इस दौरान इसे पकड़ा एवं छोड़ा जाता है।

इसको भगवान शिव के नाम के कारण शुभ माना जाता है जिस प्रकार शिव ने हलाहल विष पिया था उनका गला नीला हो गया था.

इसी तरह इसका नाम नीलकंठ का अर्थ “नीला गला” होता भगवान विष्णु की पूजा क लिए इसको शुभ एसलिए माना जाता है की यह भगवान शिव का प्रतीक माना जाता है इसलिए इसे पूजा का पक्षी कहा जाता है

Leave a Reply

Your email address will not be published.