नीला थोथा की उपयोगिता क्या है?

नीला थोथा Neela thotha एक अयस्क का नाम है।

अयस्क यानि वह पदार्थ या खनिज जिसमे से किसी धातु या अधातु के अंस पाए जाते है उदाहरण के तौर पर हमारे जमीन पर लोहा शुद्ध अवस्था में नहीं पाया जाता यह मिटटी के कुछ अंशो के साथ या पत्थर के साथ मिला हुआ पाया जाता है यही अशुद्ध पदार्थ अयस्क या Ore कहलाता है। लोहा के अयस्क के नाम है हेमेटाइड इसको ही शुद्ध करके लोहा या आयरन पाया जाता है।

ठीक ऐसे ही नीला थोथा Neela thotha एक अयस्क है इसे सामान्य बोलचाल में तूतिया भी कहा जाता है। नीला थोथा Neela thotha से तांबा या कॉपर धातु प्राप्त किया जाता है। यही एक कारण है जिसको अतीत में सबसे पहले मानव ने खोजा जिन्होंने इस खोज की बदौलत दुनिया की काया पलट दी। जो आगे चलकर और शक्ति शाली काँसा के बनने का कारण बना।

नीला थोथा या तूतिया या कॉपर सल्फेट अकार्बनिक यौगिक है जिसका रासायनिक सूत्र CuSO4है। इसे ‘क्युप्रिक सल्फेट’ भी कहते हैं। कॉपर सल्फेट कई यौगिकों के रूप में पाया जाता है जिनमें क्रिस्टलन जल की मात्रा अलग-अलग होती है। उदाहरण के लिये इसका सूखा (अजलीय) क्रिस्टल सफेद या हल्के पीले-हरे रंग का होता है जबकि पेंटाहाइड्रेट (CuSO4·5H2O) चमकीले नीले रंग का होता है। इसका पेन्टाहाइड्रेट रूप ही सर्वाधिक पाया जाने वाला रूप है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.