पीएम केयर फंड से दिए गए 592 वेंटिलेटर राजस्थान में पड़े हैं बेकार

राजस्थान (Rajasthan)में जब कोरोना अपने पीक पर था यानी रोज 18 हजार नए मामले सामने आ रहे थे, तब पीएम केयर फंड से दिए गए 592 वेंटिलेटर का इस्तेमाल नहीं हो सका था. गहलोत सरकार की तरफ से 16 मई तक भारत इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड (बीईएल) को 571 शिकायतें की गईं, लेकिन सिर्फ 180 का ही समाधान किया गया. राज्य को पीएम केयर्स के माध्यम से 1,900 वेंटिलेटर मिले हैं, जिनमें से 1,500 बीईएल द्वारा बनाए गए थे और 400 एजीवीए हेल्थकेयर द्वारा प्रदान किए गए थे.

स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा के अनुसार, राज्य में अब कुल 2,523 वेंटिलेटर हैं, जिनमें बीईएल और एजीवीए द्वारा प्रदान किए गए 1,900 वेंटिलेटर शामिल हैं. इन वेंटिलेटरों के उपयोग में न आने का एक प्रमुख कारण मुद्दों के समाधान में अड़चनें थीं. रघु शर्मा ने बताया, “बीईएल ने वेंटिलेटर के रखरखाव को टीबीएस को सौंप दिया है, जो दावा करते हैं कि उन्होंने 11 इंजीनियरों को भेजा गया है. हालांकि, हमारे पास इन इंजीनियरों का नाम और फोन नंबर भी नहीं हैं. मेडिकल कॉलेजों के माध्यम से हमें पता चला कि केवल 5 इंजीनियर काम कर रहे हैं. हालांकि, यहां तक ​​कि वे अनुभवी नहीं हैं और सभी मुद्दों को हल करने में असमर्थ हैं. इसलिए हमें वरिष्ठ, अनुभवी इंजीनियरों की जरूरत है.” एक अधिकारी ने कहा: “हमारे पास उनके डैशबोर्ड तक पहुंच नहीं है, इसलिए हम नहीं जानते कि प्रत्येक दिन कितनी शिकायतों का समाधान किया जा रहा है.”

सूत्रों के अनुसार, इनमें से कम से कम 727 वेंटिलेटर विभिन्न मेडिकल कॉलेजों में “चुनौतियों के बावजूद” इस्तेमाल किए जा रहे थे. एक शीर्ष अधिकारी ने कहा कि मुद्दों के समाधान में बाधाओं के अलावा मशीनों पर भरोसे की कमी भी एक मुद्दा है. उन्होंने कहा, “मान लीजिए कि एक डॉक्टर (doctor) इन वेंटिलेटर का उपयोग करना शुरू कर देता है और वह देखता है कि दबाव की समस्या है, तो डॉक्टर (doctor) आत्मविश्वास की कमी विकसित करता है. अगर दबाव कम हो जाता है तो क्या होगा. इसलिए वे इसका इस्तेमाल करने से कतरा रहे हैं. यह एक मुख्य कारण है जिसे हमने देखा है.

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *