पुराणों में बताए गए इन नियमों का करेंगे पालन, तभी बनेंगे धनवान और सुखी

पुराणों के अनुसार व्यक्ति को कुछ विशेष स्थितियों को कुछ चीजों का पालन करना अति आवश्यक है अगर आप इस प्रकार की चीजों को नहीं करते हैं तो जीवन में आपको अनेकों प्रकार की परेशानी है तकलीफों का सामना करना पड़ेगा जैसे अमावस्या पूर्णिमा एकादशी और दूसरे अन्य प्रकार के महत्वपूर्ण तिथियों को आपका भी मांस मछली या शराब का सेवन ना करें आप इस दिन भगवान की पूजा पाठ विधि विधान से करें ताकि आपके घर में किसी प्रकार की नकारात्मक उर्जा का प्रवेश ना और जीवन में आपको हमेशा सुख और समृद्धि की प्राप्ति हो।

पुराणों के अनुसार आप कभी भी पूजा के सामग्री या दूसरे प्रकार के पूजा से संबंधित चीजों को जमीन पर नहीं रखना चाहिए अगर आप इस प्रकार की गलती करेंगे तो जीवन में आपको अनेकों प्रकार की परेशानी हो तकलीफों का सामना करना पड़ेगा क्योंकि पूजा की सामग्री हमेशा शुद्ध जगह पर ही रखना चाहिए और साथ में आप जहां भी रख रहे हैं वहां पर लाल कपड़ा बिछाकर ही इन सामग्री को उसके ऊपर रखे क्योंकि लाल कपड़ा का पूजा जैसी चीजों में काफी महत्व माना जाता है इसलिए आप इन सभी चीजों की अनदेखी न करें नहीं तो आपको इसके गंभीर परिणाम भुगतने पड़ेंगे।

पुराणों के अनुसार कभी भी किसी व्यक्ति को अपने जीवन में पराई स्त्री को पूरे मन से नहीं देखना चाहिए अगर वह इस प्रकार की गलती करता है तो उसे जीवन में अनेकों प्रकार की परेशानी और तकलीफों का सामना करना पड़ेगा क्योंकि क्योंकि पराई स्त्री को बुरी नजर से देखना अपने आप में एक बहुत बड़ी अवगुण मानी जाती है और अगर आप इस प्रकार की आदत से मजबूर है तो जीवन आपका बर्बादी की तरफ बढ़ जाएगा इसलिए आप हमेशा स्त्रियों का सम्मान करें और साथ में उनको अच्छी नियत से देखें ताकि जीवन में आपको भगवान की विशेष कृपा प्राप्त होगी और साथ में समाज में लोग आपका मान-सम्मान भी करेंगे।

पुराणों के अनुसार आप कभी भी सूर्य ग्रहण चंद्रमा ग्रह के बाद आसमान में ना देखें अगर आप इस प्रकार की गलती करते हैं तो जीवन में आपको अनेकों प्रकार की परेशानी और तकलीफों का सामना करना पड़ेगा क्योंकि जब सूर्य ग्रहण या चंद्र ग्रहण समाप्त होता है तो उसकी हानिकारक ने आपके शरीर में प्रवेश करके घर के वातावरण को नकारात्मक ऊर्जा से भर देगी और जीवन में आपको इसके गंभीर परिणाम भुगतने पड़ेंगे इसलिए आप कभी भी इस प्रकार की गलती ना करें।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *