प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को अफसरों और मंत्रियों के साथ वर्चुअल की बैठक, समय पर लोगों को सुरक्षित स्‍थानों पर भेजने को कहा

टाउते तूफान (Tauktae Cyclone) के बाद अब पूर्वी तटीय क्षेत्रों पर यास तूफान का खतरा मंडरा रहा है. मौसम विभाग (IMD) ने बंगाल की खाड़ी में बने कम दबाव के क्षेत्र के चक्रवाती तूफान यास (Yaas Cyclone) में बदलने की संभावना जताई है और उसके 26 मई को पश्चिम बंगाल व ओडिशा तट पर पहुंचने का अनुमान जताया है.

इस तूफान से निपटने के लिए चल रही तैयारियों की समीक्षा के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने रविवार को अफसरों और मंत्रियों के साथ वर्चुअल बैठक की. इसमें पीएम मोदी ने निर्देश दिए कि संभावित खतरे वाले स्‍थानों से लोगों को समय पर सुरक्षित स्‍थानों पर पहुंचाया जाए.

इस समीक्षा बैठक के बाद प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से कहा गया है कि राष्ट्रीय आपदा मोचन बल यानी एनडीआरएफ ने चक्रवात यास से निपटने के लिए 46 टीमों को पहले से ही काम में लगाया है. 13 टीम आज हवाई मार्ग से जा रही हैं. इसके साथ ही भारतीय तटरक्षक बल और नौसेना ने राहत, खोज, बचाव अभियानों के लिए जहाजों, हेलीकॉप्टरों को तैनात किया है.

पीएम मोदी ने बैठक के दौरान अफसरों को निर्देश दिए कि बिजली और टेलीफोन नेटवर्क की कटौती के समय को कम किया जाए. बैठक में पीएम मोदी को जानकारी दी गई कि कैबिनेट सचिव ने 22 मई को नेशनल क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी की मीटिंग की थी. इसमें सभी तटीय राज्‍यों के प्रमुख सचिव और संबंधित मंत्रालय व एजेंसी शामिल थीं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.