बद्रीनाथ धाम यात्रा कैसे करें कहाँ रुके हैं कैसे जाएं और क्या देखें? जानिए

बद्रीनाथ धाम वह स्थान है जहाँ आपको प्रकृति की शांति के साथ देवत्व भी मिलता है। उत्तराखंड के चमोली जिले में 3,415 मीटर की ऊंचाई पर स्थित, भगवान विष्णु का प्रमुख निवास स्थान भारत में चार धाम तीर्थों के पवित्र मंदिरों में से एक है। अन्य चार धाम स्थलों में द्वारका, पुरी और रामेश्वरम शामिल हैं। नर और नारायण की चोटियों के बीच स्थित, भगवान विष्णु की पवित्र भूमि उत्तराखंड में छोटा चार धाम यात्रा के अंतर्गत आती है। यमुनोत्री, गंगोत्री और केदारनाथ से शुरू होकर, बद्रीनाथ गढ़वाल हिमालय के तीर्थ यात्रा के अंतिम और सबसे प्रसिद्ध पड़ाव में से एक हैं।

बद्रीनाथ धाम में मोटर मार्ग से आसानी से पहुँचा जा सकता है और एक आसान ट्रेक के साथ पैदल चलकर बद्रीनाथ मंदिर पहुँचा जा सकता है। बद्रीनाथ से लगभग 3 किमी दूर माणा गाँव है, जो भारत की सीमा समाप्त होने से पहले अंतिम गाँवों में से एक है और यहाँ से तिब्बत शुरू हो जाता है। यहाँ से दिखने वाला नीलकंठ का शिखर सभी तीर्थ यात्रियों के लिए एक दिव्य आभा को बिखेरता है।

बद्रीनाथ धाम यात्रा उत्तराखंड: भगवान विष्णु का धाम

बद्रीनाथ भगवान विष्णु का प्रिय निवास स्थान जो भारत के चार प्रमुख तीर्थस्थलों में होने के साथ उत्तराखंड के छोटा चार धामों में से एक है। यह अलकनंदा नदी के तट पर समुद्र तल से लगभग 3,415 मीटर की औसत ऊंचाई पर स्थित है। इस पवित्र शहर का नाम बद्रीनाथ धाम मंदिर के नाम पर रखा गया है, जो कि भगवान विष्णु जो सम्पूर्ण सृष्टि के संरक्षक है उनको को समर्पित है। सरे विश्व से लाखो हिंदू भक्त इस पवित्र मंदिर के आकर्षण से आकर्षित होकर खींचे चले आते है।

बद्रीनाथ धाम से जुडी पौराणिक कथाए

बद्रीनाथ धाम जितना प्रसिद्ध है उतनी ही इस स्थान के साथ पौराणिक कथाए जुडी हुई है जिनका वर्णन यहाँ किया जा रहा है।

बद्रिकाश्रम

बद्रीनाथ सबसे प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है। एक पौराणिक कथा के अनुसार, भगवान विष्णु ने इस स्थान पर कठोर तप किया था। अपने गहन ध्यान में होने के कारण, वहाँ मौसम की गंभीर स्थितियों को देखते हुऐ तथा सूर्य की चिलचिलाती गर्मी से बचाने के लिए, माता लक्ष्मी ने बद्री के पेड़ की आकृति का रूप धारण कर उसे चारो फैला दिया। यह देखकर, भगवान विष्णु उनकी इस भक्ति से प्रसन्न हुए और इसलिए उन्होंने उनके नाम पर इस स्थान का नाम बद्रीकाश्रम रख दिया।

भगवान शिव और माता पार्वती का बद्रीनाथ से प्रस्थान

एक अन्य पौराणिक कथा के अनुसार भगवान शिव और माता पार्वती बद्रीनाथ में तपस्या कर रहे थे। तब वहां भगवान विष्णु एक छोटे लड़के के रूप में आए और जोर जोर से रोकर, उनकी तपस्या को बाधित कर दिया। उस बालक को इस प्रकार रोता देखकर माता पार्वती ने उनसे उनके इस व्यवहार का कारण पूछा, जिसके जवाब में उन्होंने कहा कि वह बद्रीनाथ में ध्यान करना चाहते है। शिव और पार्वती समझ गये की यह भगवान नारायण ही है जो उस बालक के भेष में, इसके बाद वे बद्रीनाथ को छोड़कर केदारनाथ चले गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.