ब्रह्मांड में ऐसा कौनसा तारा है,जो सबसे तेज गति करता है? जानिए

वैज्ञानिकों ने खोजा सबसे तेज चलने वाला तारा, जानिए कैसे मिलती है इसे गति

मिल्की वे गैलेक्सी के केंद्र में स्थित ब्लैकहोल के पास एक ऐसा तारे) को खोजा गया है जो प्रकाश की गति के 8 प्रतिशत गति जितना तेज चलता है.

ब्रह्माण्ड में करोड़ों अरबों तारे हैं जो किसी गैलेक्सी या उसके ब्लैकहोल का चक्कर लगा रहे हैं. कुछ की गति धीमी है तो कुछ की तेज. हाल ही में खगोलविदों ने एक ऐसा तारा खोजा है जो अब तक अवलोकित सबसे तेज गति से चलने वाला तारा माना जा रहा है. यह तारा प्रकाश की गति की 8 प्रतिशत गति से चलता है. इसकी गति की व्याख्या आइंस्टीन क सिद्धांतों से संभव है.

कहां है यह तारा

हमारी गैलेक्सी मिल्की वे केंद्र में सैकड़ों तारे एक सुपरमासिव ब्लैक होल का चक्कर लगा रहे हैं. इनमें से ज्यादातर तारों का कक्षा इतनी ज्यादा बड़ी है कि उनकी गति की व्याख्या न्यूटन के गुरुत्व और केप्लर के गति के नियमों के मुताबिक की जा सकती है. लेकिन कुछ की कक्षाएं ब्लैकहोल के इतनी पास हैं कि इनकी व्याख्या आइंस्टीन के सापेक्षता के सामान्य सिद्धांत के जरिए ही सटीकता से हो सकती है.

ब्लैकहोल के पास होने का असर

सबसे छोटी कक्षा वाले तारे को S62 कहा जाता है. ब्लैकहोल के सबसे पास होने के कारण इसकी गति प्रकाश की गति के 8 प्रतिशत से कुछ अधिक है. हमारी गैलेक्सी के इस सुपरमासिव ब्लैक होल का नाम सैजिटैरियस A* या SagrA* है. इस ब्लैकहोल का भार हमारे सूर्य से 40 लाख गुना अधिक है. हम इस भार के बारे में उसके आसपास चक्कर लगाने वाले तारों के जरिए जान सके.

कैसे पता चलता है ब्लैकहोल का भार

खगोलविद दशकों से इन तारों की गति का अवलोकन कर रहे हैं. उनकी कक्षा की गणना करने हम SagrA* का भार का पता लगा सकते हैं. हाल के कुछ सालों में हमारा अवलोकन इतना सटीक हो गया है कि हम ब्लैकहोल के भार से ज्यादा कुछ जान सकते है. हम इसकी भी जांच कर सकते हैं कि ब्लैकहोल के बारे में हमारी जानकारी कितनी सटीक है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.