भारतीय सेना में फील्ड मार्शल क्या करते हैं?

फील्ड मार्शल भारतीय सेना का सर्वोच्च रैंक है। यह 5 सितारा रैंक है, जो 4 स्टार जनरल से अधिक है।

फील्ड मार्शल एक उच्चतम रैंक है। जिससे भारतीय सेना के लिए हर रोज ड्यूटी करनी नहीं है। एक चार सितारा जनरल ही फील्ड मार्शल होने पर सेनाध्यक्ष (सीओएएस) बन जाता है।

एक फील्ड मार्शल कभी रिटायर नहीं होता है। उनकी मृत्यु तक उन्हें एक सेवारत अधिकारी के रूप में गिना जाता है।

भारतीय सेना में फील्ड मार्शल बनने के केवल दो तरीके हैं।

  1. देश के प्रमुख युद्ध में अपनी सेना का नेतृत्व करने पर सम्मान के रूप में फिल्ड मार्शल का रैंक प्राप्त करते है। फील्ड मार्शल की सभी नियुक्तियाँ इस तरह से हुई है । सैम मानेकशॉ को फिल्ड मार्शल का सम्मान दिया गया था क्योंकि उन्होंने 1971 की लड़ाई में भारतीय सेना को अपनी कमान के तहत जीत दिलाई थी। केएम करियप्पा ने 1947 के युद्ध में भी ऐसा ही जादू किया था, इस तरह वह भी फील्ड मार्शल बन गए।
  2. फील्ड मार्शल बनने का दूसरा तरीका वास्तव में एक युद्धकालीन आवश्यकता है। मान लीजिए, युद्ध चल रहा है।जनरल की रिटायरमेंट की सामान्य आयु निकट है। अब क्या करें? जारी युद्ध के दौरान अपनी सेना के शीर्ष व्यक्ति को बदलना एक आपदा हो सकता है। समाधान यह है कि उसे फील्ड मार्शल के पद पर पदोन्नत करें क्योंकि फील्ड मार्शल रिटायर नहीं हो सकता है। युद्ध के बाद, प्रशासनिक जिम्मेदारियों को अगले जनरल में स्थानांतरित कर सकते है । हालांकि, इस तरह से फील्ड मार्शल नियुक्त करने की आवश्यकता कभी नहीं हुई है।
  • चूंकि फील्ड मार्शल एक आजीवन रैंक है, इसलिए एक सेवानिवृत्त अधिकारी फील्ड मार्शल नहीं बन सकता है। मानेकशॉ को सेवानिवृत्ति से ठीक पहले 1973 में फील्ड मार्शल के पद पर पदोन्नत किया गया था। हालांकि करियप्पा के मामले में, वह पहले ही सेवानिवृत्त हो चुके थे, इसलिए उन्हें प्रोटोकॉल के अनुसार फील्ड मार्शल नहीं बनाया जा सकता था। लेकिन भारत सरकार ने करियप्पा को उनका उचित सम्मान देने के लिए इस प्रोटोकॉल को रद्द कर दिया और उन्हें 1986 में फील्ड मार्शल बनाया गया।
  • फील्ड मार्शल की तरह नौसेना के लिए एडमिरल ऑफ़ घ फ्लीट और वायु सेना के लिए मार्शल सर्वोच्च रेंक हैं। अभी तक किसी को एडमिरल ऑफ़ घ फ्लीट के लिए पद नहीं दिया गया है , हालांकि, वायु सेना के मार्शल के लिए पदोन्नति की गई है। 1965 के युद्ध में वायु सेना का नेतृत्व करने के लिए अर्जन सिंह को आभार के रूप में ये विशेषाधिकार मिला।
  • एक मार्शल की पहचान करने का सबसे अच्छा तरीका उसका बैटन है, जिसे मार्शल के बैटन के रूप में जाना जाता है। यह एक सुनहरी पट्टी है, जिसके सिर पर कुछ सजावट है। मार्शल का बैटन इस रैंक के सम्मान और प्रतिष्ठा को दर्शाता है। भारतीय सेना के मामले में, मार्शल का बैटन आमतौर पर एक सुनहरे पट्टी के साथ बनाया जाता है, जिसमें अशोक स्तम्भ होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.