भुट्टे के बाल मे छुपे है गज़ब के फायदे, जिसे जानकर आप हो जाएंगे हैरान

 मानसून के दौरान मकई खाने का अपना अलग ही मजा है। मकई का स्वाद लेने के लिए लोग अलग-अलग तरीके आजमाते हैं। वे कभी ध्यान नहीं देते हैं कि मकई के बाल या रेशे (मकई के ऊपर भूरे रंग के रेशे) भी इस प्रक्रिया में बहुत उपयोगी होते हैं।

 लोग आमतौर पर मकई की भूसी, यानी मकई की भूसी को फेंक देते हैं, लेकिन वे स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद हैं। पेट, मलेरिया, सोरायसिस और हृदय के रोगों में इसका उपयोग किया जाता है।

 किडनी स्टोन को रोकने के लिए जुड़े डॉ। लक्ष्मीदत्त शुक्ला के अनुसार, किडनी स्टोन को रोकने के लिए कॉर्न हेयर का इस्तेमाल किया जाता है। जब गुर्दे में छोटे क्रिस्टल बनते हैं, तो वे पत्थरों का रूप ले लेते हैं, जिससे गंभीर दर्द होता है। कॉर्न की भूसी खाने से बार-बार पेशाब आता है और इससे किडनी स्टोन का खतरा कम होता है। यह उपाय गुर्दे की पथरी से बचाता है और ठीक नहीं होता है।

 मूत्र पथ के संक्रमण में फायदेमंद

 मूत्र पथ के संक्रमण (यूटीआई) एक माइक्रोबियल संक्रमण है। अधिकांश यूटीआई बैक्टीरिया के कारण होते हैं, लेकिन कभी-कभी यह कवक और वायरस द्वारा भी फैलता है। भुट्टे बाल UTI को ठीक करने के लिए एक विरोधी भड़काऊ एजेंट के रूप में कार्य करता है। यह मूत्र को जलने से रोकता है। कॉर्न बालों की चाय पीने से मूत्राशय और मूत्र पथ की सूजन ठीक हो जाती है। इसका उपयोग मूत्र लाता है और मूत्र पथ में बैक्टीरिया के गठन के जोखिम को कम करता है।

 कोलेस्ट्रॉल कम होता है

 इसके सेवन से कोलेस्ट्रॉल भी कम होता है। अध्ययनों से पता चला है कि इसका अर्क खराब कोलेस्ट्रॉल और कुल कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद कर सकता है। यह अच्छे कोलेस्ट्रॉल को भी बढ़ाता है।

 ब्लड प्रेशर कम करता है

 हाई ब्लड प्रेशर के रोगियों के लिए मकई के बाल फायदेमंद होते हैं। यह पेशाब के कारण रक्तचाप को कम करने में मदद करता है। चूहों में अध्ययन से रक्तचाप के स्तर में कमी देखी गई है। यह मकई के अर्क से एंजियोटेंसिन-परिवर्तित एंजाइम की गतिविधि में कमी के कारण है।

 ओब को राहत मिलती है

 मकई बालों के झड़ने से छुटकारा पाने में मदद करता है। कुछ लोग पानी के प्रतिधारण और शरीर में विषाक्त पदार्थों के संचय के कारण मोटापे से पीड़ित होते हैं। कॉर्न बालों को शरीर से बाहर निकालने में मदद करता है और यह वजन घटाने की प्रक्रिया को बढ़ाता है।

 इन बातों का भी ध्यान रखें

 कॉर्न को पानी में तब तक उबाल कर बनाया जाता है जब तक कि बाल आधे न कट जाएं। इसे खाने के कई स्वास्थ्य लाभ हैं। जिन लोगों को कॉर्न से एलर्जी है, वे इसे नियमित रूप से लेने से पहले डॉक्टर से सलाह लें। गर्भवती महिलाओं को इसे सीमित करना चाहिए या स्त्री रोग विशेषज्ञ से परामर्श करना चाहिए। इसके अलावा, मधुमेह, उच्च रक्तचाप और निम्न रक्तचाप वाले रोगियों को भी इसे सीमित मात्रा में लेना चाहिए।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *