मथुरा, डिगबोई और पानीपत में किस कंपनी की रिफाइनरी स्थित है? जानिए

देश के दूरस्थ उत्तर पूर्वी कोने में डिगबोई का छोटा शहर भारत में तेल उद्योग का जन्म स्थान है। 11 दिसंबर 1901 को शुरू हुई डिगबोई रिफ़ाइनरी, भारत की सबसे पुरानी ऑपरेटिंग रिफ़ाइनरी और दुनिया की सबसे पुरानी ऑपरेटिंग रिफ़ाइनरियों में से एक है। ऐतिहासिक डिगबोई रिफ़ाइनरी को “भारतीय हाइड्रोकार्बन क्षेत्र की गंगोत्री” कहा जाता है।

इससे पहले असम तेल कंपनी लिमिटेड/बर्मा तेल कंपनी के स्वामित्व और संचालन में, यह 14 अक्टूबर 1981 को संसद के एक अधिनियम द्वारा इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड में मिला दिया गया और इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड का असम ऑयल डिवीज़न बन गया।

डिगबोई रिफ़ाइनरी, अपनी आधुनिकीकृत प्रचालन और सुविधाओं के साथ, एक आईएसओ 9001, आईएसओ 14001 और बीएस ओएचएसएएस 18001 प्रमाणित रिफ़ाइनरी है, जिसका तात्पर्य है कि यह सक्रिय प्रदूषण नियंत्रण उपायों को अपना कर पर्यावरण संरक्षण को बढ़ावा देने के लिए सभी संभव साधनों का उपयोग करती है।

रिफ़ाइनरी के भीतर प्रयासों के अलावा, असम ऑयल सक्रिय रूप से डिगबोई के भीतर और आसपास और अन्य सभी क्षेत्रों में जहां यह प्रचालन करता है, पर्यावरण संरक्षण, वृक्षारोपण और संरक्षण प्रयासों को बढ़ावा देता है स्थानीय स्कूलों, कॉलेजों और विभिन्न सामाजिक और गैर-सरकारी संगठनों के साथ इस संबंध में बातचीत करता है।

डिगबोई रिफ़ाइनरी में 0.65 मि मी टन प्रति वर्ष की क्रूड प्रेसेसिंग क्षमता है। यह डिगबोई के आस-पास के इलाके में चल रहे तेल क्षेत्रों से निकलने वाली वैक्सी क्रूड को प्रोसेस करता है। इसने 2018 में क्रूड कंडेनसेट की प्रोसेसिंग भी शुरू कर दी है। 1990 के दशक के अंत में नई सीडीयू, डीसीयू, सीआरयू को चालू करने के साथ डिगबोई रिफ़ाइनरी का आधुनिकीकरण किया गया था।

21 वीं शताब्दी के प्रारंभिक वर्षों में, एसडीयू, डब्ल्यूएचएफयू, एचडीटीयू, एचजीयू, एसआरयू और कैप्टिव पावर प्लांट के नए यूनिट शुरू किए गए। बाद में, डिगबोई रिफ़ाइनरी ने 2010 में एमएसक्यू यूनिट, एनएचटी और आईएसओएम यूनिट चालू किए। रिफ़ाइनरी में स्लैब और पैलेट रूप में फिनिश वैक्स के उत्पादन के लिए क्रमशः वैक्स मोल्डिंग यूनिट और वैक्स पेलेटाइज़ेशन यूनिट भी है। इसने आईओसीएल-आर एंड डी विकसित प्रौद्योगिकी का उपयोग कर क्रंब रबड़ संशोधित बिटुमेन के उत्पादन के लिए 2018 में सीआरएमबी + यूनिट को भी स्थापित करके चालू किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.