महाभारत के ऐसे सत्य क्या हैं जो किसी सीरियल में नहीं दिखाये गए?

प्राग ज्योतिष के राजा भागदत का वर्णन नहीं करते क्योंकि अर्जुन दिग्विजय के दौरान हरा नहीं पाए थे। भागदत् ने भीम सत्याकि अभिमन्यु अर्जुन को एक साथ हराया था।

द्रौपदी ने एक बार शकुनि का अपमान किया था और कहा था कि यह कैसे भाई हैं जो अपनी बहन के यहां रह कर खाते हैं।

उसने घटोत्कच को भी शाप दिया था कि तुम अल्पायु होगे घटोत्कच ने द्रौपदी को सम्मान नहीं दिया था क्योंकि घटोत्कच जानता था कि भीम द्रोपदी को अधिक प्रेम करते हैं मेरी माता हिडिंबा से मिलने तक नहीं आते।

अभिमन्यु युद्ध में द्रौपदी के अपमान के लिए बदला लेना चाहता था दुर्योधन से इसीलिए वह उस दिन जब अर्जुन नहीं थे तब चक्रव्यूह में घुसकर दुर्योधन को मारने का प्रयत्न किया परंतु बीच में दुर्योधन का बेटा लक्ष्मण के आ जाने पर उसका वध कर दिया तब दुश्शासन के बेटे ने उसके सर पर गदा मार कर उसकी हत्या कर दी टीवी सीरियल में यह गलत दिखाया जाता है और बताया जाता है कि 7 महारथियों ने मारा मिलकर अभिमन्यु को।

दुर्योधन और कर्ण की मित्रता स्वार्थ पर नहीं की थी अगर होती तो कवच कुंडल दान के बाद दुर्योधन कर्ण को छोड़ देता और राज्य छीन लेता।

इसी कारण कर्ण ने भी दुर्योधन के साथ आजीवन मित्रता निभाई और उसके लिए प्राण भी दिए।

दुर्योधन ने कर्ण को राजा बनाया क्योंकि वाह राज्य के विस्तार के लिए और जरासंध जैसे शत्रु को घेरने के लिए करण को राजा बनाया।

बहुत कम लोग जानते हैं कि कर्ण महाभारत का सबसे सुंदर व्यक्ति था, और कर्ण के भी 10 नाम थे जैसे अर्जुन के थे।
पांचो पांडव के पुत्र और दुर्योधन और दुशासन के पुत्रों में शत्रुता थी और उनमें कई बार बहस भी हुई थी वह एक दूसरे का सम्मान नहीं करते थे सदा युद्ध के लिए तत्पर रहते थे,यह शत्रुता उनके पिताओ ने उनमें डाली।

दुर्योधन और पांडवों के नाती पोते भी थे यह सब टीवी सीरियल में नहीं बताते। अर्जुन ने राज्य के विस्तार के लिए कई राज्य की राजकुमारियों से विवाह किए।

शकुनी ने हस्तिनापुर का विश्वास जीतने के लिए कई राज्य को जुए में जीतकर हस्तिनापुर में मिलाया शकुनी माया विद्या भी जानता था और तंत्र मंत्र भी करता था यही विद्या उसन दुर्योधन को भी सिखाई तभी तो दुर्योधन ने अंतिम समय में जल को माया से शांत कर उसमें छुप गया।

राक्षस निकुंभ ने एक बार अर्जुन को अधमरा कर उल्टा टांग दिया था तब प्रदुम ने बचाया।

और भी कई तथ्य टीवी सीरियल में नहीं दिखाते जैसे अर्जुन महाभारत युद्ध में 13 बार हारे हैं और 8 बार भगवान कृष्णा ने जान से बचाया दो बार तो युद्ध से पीछे हट गये ,एक बार करण के भार्गव अस्त्र से एक बार अश्वत्थामा के नारायणस्त्र अस्त्र से और भागदत्त के वैष्णवास्त्र से भी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.