महेंद्र सिंह धोनी कभी दान क्यों नहीं करते या वो करते हैं पर दूसरों की तरह दिखावा नहीं करते?

दान एक ऐसा पुण्य है जिसका दिखावा नहीं किया जाना चाहिए,क्यों की उस का ढिंढोरा पीटने से उसकी महत्ता तो कम होती ही है साथ ही देने वाले को भी पुण्य नहीं मिलता दान के मामले में कहते भी हैं की बाएं हाथ को पता नहीं चलना चाहिए की दाएं हाथ ने क्या दिया है |

बहरहाल,ये सवाल फिर भी अपनी जगह कायम है की धोनी ने एक लाख दिए या ज्यादा दिए ? तो साहेबान, अब ये उनका व्यक्तिगत मामला है उन पर कोई जोर तो है नहीं की उन्हें कितना देना चाहिए ?

अब इसमें सच्चाई क्या है,कितनी है यह तो धोनी खुद ही जानते हैं और जिस तरह का उनका स्वभाव है वे शायद ही कभी इस मामले में सार्वजनिक रूप से कुछ कहेंगे |

Leave a Reply

Your email address will not be published.