मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई में टीकाकरण हमारा रक्षा कवच है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई में टीकाकरण हमारा रक्षा कवच है। राज्य सरकार लक्षित आयु वर्ग के समस्त लोगों को वैक्सीनेट करने के लिए सभी जरूरी कदम उठा रही है। प्रदेश में व्यापक स्तर पर निःशुल्क कोविड वैक्सीनेशन कार्य किया जा रहा है। उन्होंने राज्य में कोविड वैक्सीनेशन कार्य को और तेजी से आगे बढ़ाने के निर्देश दिये हैं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ यहां अपने सरकारी आवास पर वृहद कोविड टीकाकरण के सम्बन्ध में उच्चस्तरीय समिति की बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। उन्होंने कहा कि भारत सरकार व राज्य सरकार निःशुल्क कोविड वैक्सीनेशन करा रही है। केन्द्र सरकार द्वारा 45 वर्ष से अधिक आयु के लोगों का निःशुल्क टीकाकरण कराया जा रहा है। राज्य सरकार अपने संसाधनों से प्रदेश के 18 से 44 आयु वर्ग के लोगों का निःशुल्क टीकाकरण करा रही है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान में प्रदेश के 23 जनपदों में 18 से 44 वर्ष आयु वर्ग के लोगों को टीकाकरण किया जा रहा है। आगामी 1 जून से प्रदेश के सभी 75 जनपदों में इस आयु वर्ग के लोगों का टीकाकरण प्रारम्भ हो जाएगा। उन्होंने इस सम्बन्ध में सभी व्यवस्थाओं को समय से सुनिश्चित करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि लक्षित आयुवर्ग के लिए वैक्सीन की सुचारू उपलब्धता बनाए रखी जाए। इसके लिए केन्द्र तथा दोनों टीका निर्माता कम्पनियों से लगातार संवाद कायम रखा जाए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि विशेषज्ञों द्वारा कोविड-19 की सम्भावित थर्ड वेव में बच्चों के ज्यादा प्रभावित होने की आंशका व्यक्त की जा रही है। इसके दृष्टिगत राज्य सरकार ने 12 वर्ष तक की आयु के बच्चों के अभिभावकों को वैक्सीनेट करते हुए उन्हें सुरक्षा कवच प्रदान करने का निर्णय लिया है। उन्होंने ऐसे अभिभावकों का टीकाकरण प्राथमिकता पर किये जाने के निर्देश देते हुए कहा कि इसके लिए प्रत्येक जनपद में ‘अभिभावक स्पेशल’ बूथ स्थापित किये जाएं। ऐसे अभिभावकों से सम्पर्क कर उन्हें टीकाकरण के लिए प्रेरित और प्रोत्साहित किया जाए। यह वैक्सीनेशन अभिभावकों के साथ-साथ इनके बच्चों की संक्रमण से सुरक्षा में उपयोगी होगा। उन्होंने इस कार्य को अभियान के रूप में संचालित किये जाने के निर्देश दिये।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य कर्मचारियों के टीकाकरण के लिए सभी जनपदों में अलग से बूथ स्थापित किये जाएं। इन्हें जनपद, तहसील एवं विकास खण्ड मुख्यालय स्तर पर संचालित किया जाए। इसी प्रकार अध्यापकों के टीकाकरण कार्य को भी आगे बढ़ाया जाए। इसके लिए प्रत्येक जनपद में जिला विद्यालय निरीक्षक तथा बेसिक शिक्षा अधिकारी के कार्यालयों को केन्द्र बिन्दु बनाकर प्रभावी कार्यवाही की जाए।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *