यदि आप वास्तु-नौकरी में पदोन्नति चाहते हैं, तो घर के इस कोने में यह गलती न करें,कारण जानिए

पूर्व और उत्तर का मिलन सभी देवी-देवताओं का निवास है, यही वजह है कि इस दिशा को सबसे शुभ माना जाता है।

वास्तु शास्त्र के अनुसार, जिस स्थान पर पूर्व और उत्तर दिशा मिलती है उसे उत्तर-पूर्व का कोना कहा जाता है। है। आपको बता दें कि इस दिशा का स्वामी ग्रह बृहस्पति और केतु माना जाता है, सभी दिशाओं में इसे सबसे उत्कृष्ट दिशा माना जाता है। घर का यह हिस्सा सबसे पवित्र है।

पूर्वोत्तर का कोना पूर्व और उत्तर का मिलन सभी देवी-देवताओं का निवास है, यही वजह है कि इस दिशा को सबसे शुभ माना जाता है। इसे साफ सुथरा और खाली रखना चाहिए।

अगर आप नौकरी या व्यवसाय में तरक्की पाना चाहते हैं तो इस दिशा को हमेशा साफ सुथरा रखें। यह पूर्वोत्तर कोने में नहीं होना चाहिए इस जगह पर कोई खुरदरापन नहीं होना चाहिए, अन्यथा आप बाधित होंगे। गलती से भी इस दिशा में स्टोर रूम या टॉयलेट न बनवाएं, वरना आप फेल हो जाएंगे और आपके पास पैसे खत्म हो जाएंगे। ज्योतिषी के अनुसार, पूर्वोत्तर कोने में रसोई और शयनकक्ष होने से वास्तु दोष उत्पन्न होता है, इसलिए इसका भी ध्यान रखें।

लोहे की वस्तु न रखें वास्तु शास्त्र के अनुसार, लोहे की कोई भी भारी वस्तु इस दिशा में नहीं होनी चाहिए। कोई नुकीली वस्तु या झाड़ू नहीं रखना चाहिए, अन्यथा धन की हानि होगी, इसलिए इससे सावधान रहें। घर या ऑफिस के इस हिस्से में बैठने की व्यवस्था नहीं होनी चाहिए। इस दिशा में सिंक या वॉशबेसिन न रखें, यदि कोई हो, तो उसे हटा दें, अन्यथा नौकरी-व्यवसाय में बाधा आएगी।

उत्तर-पूर्व का कोना ऊंचा स्थान देता है अपने घर या ऑफिस के ईशान कोण में देवी-देवताओं की फोटो या मूर्ति रखकर प्रतिदिन पूजा करें। इस हिस्से को नियमित रूप से साफ करते रहें, क्योंकि अगर घर का यह हिस्सा साफ रहता है, तो लक्ष्मी आपके घर में निवेश करेगी। इस दिशा में पूजा स्थल बनाकर लक्ष्मी की मूर्ति रखें और नियमित रूप से पूजा करें, उत्तर पूर्व कोने में श्वेतार्क गणपति होने से धन और पदोन्नति होती है

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *