यह है दुनिया का सबसे दुर्लभ सूअर

यदि सूअरों की बात की जाए तो हमारे देश में शहरों और गांवों में सूअर सामान्यतः देखने को मिल ही जाते हैं। सूअर को एक ऐसा जीव माना जाता है जो गंदगी और पानी में रहना पसंद करता है। आज हम आपको सूअर के एक ऐसी प्रजाति के बारे में बताने वाले हैं, जिसे सुनकर आप अवश्य ही हैरान रह जाएंगे।

पिग्मी हॉस एक ऐसा सूअर है जो एक दुर्लभ किस्म का और दुनिया का सबसे छोटा सूअर माना जाता है। ऐसा सूअर की प्रजाति एक महामारी के कारण खतरे में है। इस कारण वर्तमान में इस समय इसे सबसे दुर्लभ सूअर माना जा रहा है। सूअर के प्रजातियों की संख्या लगभग 300 के है और यह भारत और अफ्रीका के देशों में समान रूप से पाए जाते हैं। वर्तमान समय में इस सूअर की प्रजाति एक महामारी के खतरे से जूझ रही है, जिस कारण इनकी संख्या निरंतर रूप से कम होती जा रही है। इस सूअर को बचाए रखने के लिए इसे अन्य प्रजातियों से अलग रखा जा रहा है ताकि इसको सुरक्षा और संरक्षण प्रदान किया जा सके।

इन सूअरों को सुरक्षा प्रदान करने के लिए इन्हें अलग-अलग बाडों के द्वारा सुरक्षित रखा गया है ताकि इनकी प्रजाति को लंबी उम्र प्राप्त हो सके। इसके साथ ही इन सूअरों को ऐसे पार्क में रखा जाता है, जहां जाने पर प्रत्येक व्यक्ति का प्रतिबंध है। इस प्रजाति को भारत के असम क्षेत्र के साथ-साथ कई क्षेत्रों में संरक्षित रखा जा रहा है। एसा करने वाली यह सूअरों की पहली प्रजाति है। इस प्रजाति को संरक्षित रखना भी काफी आवश्यक है क्योंकि यह एक दुर्लभ किस्म की और सूअरों की सबसे छोटी प्रजाति भी है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *