यह है वायरलेस चार्जिंग सपोर्ट करने वाले फ़ोन्स

आप सबने तो सुना ही होगा वायरलेस चारजिंग के बारे ।अभी तो हम सभी के पास तो अभी वायरलेस चारजिंग सपोर्ट वाले समाट फोन उपलब्ध नहीं है । क्योकी वायरलेस चारजिंग सपोर्ट वाले फोन थोठे महंगे होते हैं फिर भी यह फोन कुछ साल बाद फोन बनाने वाली कंपनीयों के बीच प्रतिस्पर्धा की वजह से यह फोन सस्ते हो सकते हैं ।

अब हम बात करते हैं वायरलेस चार्जींग की तकनीक की । “वायरलेस चार्जींग” शब्द से ही शुरू करते हैं । वायरलेस चार्जींग का अर्थ है तार या फिर कहे तो बीना वायर के चार्जींग करना । वायरलेस चार्जिंग के लिए बस आपको अपना स्मार्टफोन चार्जिंग डॉक पर रखना होता है।

वायरलेस चार्जींग इलेक्ट्रोमैग्नेटिक इंडकशन (प्रेरण) के सिद्धांत पर आधारित है । उपर उपलब्ध चित्र में आपको Induction coil दिख रही है। एक चार्जींग पेड तथा एक फोन के सर्किट बोर्ड । induction coil का उपयोग विघुतचुम्बकीय तरंगों को उत्पन्न करने के लिए किया जाता है । चार्जींग पेड में प्रदान कि गयी induction coil द्वारा विघुतचुम्बकीय तरंगों को उत्पन्न किया जाता है । यह तरंगे चार्जींग पेड के उपर रखे हुए फोन कि induction coil तक पहुंचती हैं । जब फोन की induction coil मे यह तरंगे पहुंचती है तो विघुत प्रवाहित होता है तथा फोन को चार्ज करने का काम करता है ।

इस प्रक्रिया में कुछ कमियां भी हैं

जब आप फ़ोन चार्ज करने लगाते है तो आपके फोन का चार्जिंग कॉइल और चार्जर के कॉइल का मिला हुआ होना जरूरी हैअगर थोड़ा सा हिल गया तो चार्जिंग रुक जाती है।
इस वायरलेस चार्जिंग में लंबा प्रोसेस लगता है, यह आम चार्जर की तुलना में काफी देर में आपका फोन चार्ज कर पाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.