प्रवासी श्रमिकों को सीएम योगी का तोहफा, मोबाइल ऐप से खुद कर पाएंगे पंजीकरण

यूपी शिक्षक फर्जी मामला: अब पूरे प्रदेश में प्राइमरी से लेकर यूनिवर्सिटी तक के टीचरों की होगी जांच

अनामिका प्रकरण के बाद प्रदेश के विवि एवं कॉलेजों में कार्यरत सरकारी शिक्षक-कर्मचारियों की सर्विस बुक से लेकर प्रमाण पत्रों की जांच शुरू हो गई। प्राइमरी से उच्च शिक्षा तक के प्रमाण पत्रों की जांच 31 जुलाई तक पूरी होगी।

कार्यरत शिक्षक-कर्मचारियों को निर्धारित प्रफोर्मा पर सर्विस बुक के रिकॉर्ड देने होंगे। कार्यरत शिक्षक-कर्मचारियों को अंगूठे के निशान भी देने होंगे। सरकार सर्विस बुक को डिजिटलाइज्ड फॉर्मेट में करने जा रही है।शसन ने विवि को प्रमाण पत्रों की जांच 31 जुलाई तक पूरी करने के निर्देश दिए हैं।

प्रदेश से प्राथमिक से उच्च शिक्षा में कार्यरत शिक्षकों के प्रमाण पत्र संबंधित विवि में जांच को भेजे जाएंगे। विवि कमेटी बनाते हुए इन प्रमाण पत्रों की जांच करते हुए शासन को रिपोर्ट देंगे।

अनामिका प्रकरण के बाद शासन ने प्राथमिक से उच्च शिक्षा तक कार्यरत शिक्षकों के प्रमाण पत्रों की जांच कराने को एसआईटी गठित कर रखी है।

दोस्तों यह पोस्ट आपको कैसी लगी हमें कमेंट करके जरूर बताएं और अगर यह पोस्ट आपको पसंद आई हो तो इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर लाइक करना ना भूलें और अगर आप हमारे चैनल पर नए हैं तो आप हमारे चैनल को फॉलो कर सकते हैं ताकि ऐसी खबरें आप रोजाना पा सके धन्यवाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published.